19 Jan 2021, 05:5 HRS IST
  • दिल्ली में करीब 10 महीने बाद 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए खुले स्कूल
    दिल्ली में करीब 10 महीने बाद 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए खुले स्कूल
    ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की
    ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की
    कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड
    कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड
    एम्स,नई दिल्ली में कोविड-19 वैक्सीन दिखाते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन
    एम्स,नई दिल्ली में कोविड-19 वैक्सीन दिखाते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम मुलाकात
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
    • मुलाकात
    • रेटिंग   Rating Rating Rating Rating Rating
  •  
  • [ - ] आकार [ + ]
  • हिमांशु सिंह
    नयी दिल्ली, 26 दिसंबर : भाषा : प्रसिद्ध टी वी अभिनेत्री रक्षंदा खान का कहना है कि रियलिटी शोज की भरमार के बीच भी बुद्धू बक्से पर पारिवारिक धारावाहिकों की जगह बनी रहेगी। उनका मानना है कि अनेक पारिवारिक धारावाहिकों को लोग आज भी देखना पसंद करते हैं इसलिये उनका वजूद बरकरार है।
    प्रसिद्ध टेलीविजन शो ‘क्यूंकि सास भी कभी बहू थी’ में तान्या विरानी ‘जस्सी जैसी कोई नहीं’ में मल्लिका सेठ का किरदार निभाकर मशहूर हुयीं रक्षंदा इन दिनों सहारा वन चैनल पर ‘झिलमिल सितारों का अांगन होगा’ में कुसुम के रूप में नज़र आ रही हैं।
    रक्षंदा ने भाषा को बताया, ‘‘मंै हमेशा से ही मानती आयी हूं कि दर्शक जो पसंद करते हैं निर्माता वही बनाते हैं। यही कारण है कि जैसे जैसे लोगों की पसंद बदलती है टीवी पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों का मिजाज़ भी बदल जाता है।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या उनको कभी अन्य टीवी कलाकारों की तरह ‘बिग बॉस’ जैसे रियलिटी शो में भाग लेने का मौका नहीं मिला? रक्षंदा ने कहा कि वह कभी नहीं चाहतीं कि उनके निजी जीवन की झलकियां लोगों को टी वी पर दिखें। उन्होंने कहा कि वह किरदार निभाना पसंद करती हैं और उनका निजी जीवन सिर्फ उनके परिजनोंे और दोस्तों के सामने ही दिखे तो बेहतर है।
    आमतौर पर टीवी धारावाहिकों में नकारात्मक भूमिकाएं निभा चुकी रक्षंदा ने बताया कि वह खुद को ‘टाइपकास्ट’ होते हुये नहीं देखना चाहती। अपने नये किरदार के बारे में उन्होंने बताया कि ‘झिलमिल सितारों का अांगन होगा’ में कुसुम एक बहादुर लड़की है जिसने अपने माता पिता की मौत के बाद कठिनाइयों का सामना किया और वह अपने छोटे भाई आकाश को स्वतंत्र बनाना चाहती है।

रेट दें
Submit
  • इस मुलाकात पर अपनी राय दें
  • अन्य मुलाकात
  •     
add