26 Apr 2017, 01:40 HRS IST
  • शहीद सीआरपीएफ के जवानों को श्रधांजलि
    शहीद सीआरपीएफ के जवानों को श्रधांजलि
    अजमेर : मिट्टी के बर्तन बनाते कुम्हार
    अजमेर : मिट्टी के बर्तन बनाते कुम्हार
    भोपाल के ऐतिहासिक ताज उल मस्जिद के उपर छाये बादल
    भोपाल के ऐतिहासिक ताज उल मस्जिद के उपर छाये बादल
    बुसान परमाणु हथियाडों से लैश अमेरिकी पनडुब्बी मिशीगन
    बुसान परमाणु हथियाडों से लैश अमेरिकी पनडुब्बी मिशीगन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • रिजर्व बैंक 2017 में नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की कर सकता है कटौती: सिटी ग्रुप

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:36 HRS IST

नयी दिल्ली, 10 जनवरी :भाषा: रिजर्व बैंक इस साल नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत तक की कटौती कर सकता है और इसके फरवरी के बजाए अप्रैल में होने की संभावना अधिक है। सिटी ग्रुप की रिपोर्ट में यह कहा गया है।

वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी ने अपनी रिपोर्ट में कहा मौद्रिक नीति में कटौती को धन की आसानी का सहारा खत्म हो रहा है और यह अब राजकोषीय नीति पर निर्भर करेगा।

रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘हमारा बुनियादी अनुमान है कि राजकोषीय घाटे को सीमित करने की योजना से थोड़ा भटकाव होगा : 2017-18 में इसे जीडीपी के तीन प्रतिशत तक सीमित रखने की जगह इसे बढ़कर 3.4 प्रतिशत किया जाएगा:। ऐसे में हमारा मानना है कि मौद्रिक नीति समिति :एमपीसी: 2017 में नीतिगत दर में केवल 0.25 प्रतिशत की कटौती ही करेगी।’’ नये नोटों को चलन में लाने की प्रक्रिया प्रभावी तरीके से लागू होने के बाद नीतिगत दर ज्यादा प्रभावी होगी और बैंकों के पास रिण देने योग्य संसाधनों में वृद्धि के बारे में स्पष्टता होगी।

उसने कहा, ‘‘इससे अप्रैल में नीतिगत दर में कटौती की संभावना फरवरी के मुकाबले अधिक लगती है।’’ केंद्रीय बैंक आठ फरवरी को अगली मौद्रिक नीति समीक्षा करेगा।

इससे पहले, सात दिसंबर को केंद्रीय बैंक ने नीतिगत ब्याज दर को अपरिवर्तित रखा था। साथ ही आर्थिक वृद्धि के अनुमान में 0.5 प्रतिशत कटौती कर 7.1 प्रतिशत कर दिया। मुद्रास्फीति के बारे में रिपोर्ट में कहा गया है कि 2017-18 में औसत मुद्रास्फीति 4.9 प्रतिशत रहने का अनुमान है जिसके 2016-17 में 4.6 प्रतिशत रहने की संभावना हैं

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में