27 Apr 2018, 06:16 HRS IST
  • अमृतसर में किसान बाजार में गेंहू के दानों को दर्शाते
    अमृतसर में किसान बाजार में गेंहू के दानों को दर्शाते
    नई दिल्ली में न्यू फोर्ड फ्रीस्टाईल कार लांच किया गया
    नई दिल्ली में न्यू फोर्ड फ्रीस्टाईल कार लांच किया गया
    2018 बर्लिन एयर शो का शानदार नजारा
    2018 बर्लिन एयर शो का शानदार नजारा
    बेंगलूर : रॉयल चैलेंजर के खिलफ जीत के लिए छक्का जडते हुए धोनी
    बेंगलूर : रॉयल चैलेंजर के खिलफ जीत के लिए छक्का जडते हुए धोनी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • छोटे समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाली संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की भारत ने की निंदा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:19 HRS IST

:योशिता सिंह: संयुक्त राष्ट्र, 11 जनवरी :भाषा: भारत ने विश्व की जनसंख्या के एक ‘‘छोटे समुदाय’’ का प्रतिनिधित्व करने वाली और ‘‘समय के साथ न बदलने वाली’’ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आलोचना करते हुए कहा है कि ‘‘पुराने ढंग से काम करने वाली’’ संस्था के बजाए ‘‘समय के साथ सुधार करने’’ वाली वैश्विक संस्था ही संषर्घ रोकने एवं शांति स्थापना की मौजूदा चुनौतियों से निपटने में प्रभावशाली हो सकती है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने ‘‘संषर्घ रोकथाम एवं स्थायी शांति’’ पर कल यहां आयोजित एक बहस में कहा, ‘‘जब दुनिया बदल रही है, तो ऐसे में शांति एवं सुरक्षा के क्षेत्रों के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार संस्थागत संरचना जड़ बनी हुई है। ‘‘हम लोगों’’ की ओर से निर्णय लेने वाली सुरक्षा परिषद विश्व की जनसंख्या के छोटे समुदाय का नेतृत्व करती है।’’ अकबरूद्दीन ने कहा कि यदि 15 देशों की परिषद को एक छोटे समुदाय नहीं बल्कि ‘‘लोगों’’ के लिए नियम बनाने हैं तो उसे पर्याप्त रूप से नई वास्तविकताओं को प्रतिबिम्बित करने करने की आवश्यता है।

उन्होंने कहा, ‘‘21वीं सदी के नए मुद्दों, खतरों एवं चुनौतियों का सामना करने के लिए एक ऐसी संस्था की आवश्यकता है जो समय के साथ सुधार करे, न कि पुराने ढंग से काम करे। अपना औचित्य खो चुकी सुरक्षा परिषद संघर्ष रोकथाम एवं स्थायी शांति की चुनौतियों का सामना करने में एक प्रभावशाली उपकरण नहीं हो सकती।’’ जारी

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।