27 May 2017, 19:10 HRS IST
  • मॉरीशस के प्रधानमंत्री पीके जगन्नाथ से मिलते पीएम मोदी
    मॉरीशस के प्रधानमंत्री पीके जगन्नाथ से मिलते पीएम मोदी
    इलाहाबाद: पार्क में योगाभ्यास करते लोग
    इलाहाबाद: पार्क में योगाभ्यास करते लोग
    मुंबई: फिल्म
    मुंबई: फिल्म "ट्यूबलाईट" का ट्रेलर लांच करते सलमान खान
    कोटा: ग्लोबल राजस्थान एग्रीकेट मीट को संबोधित करती वसुंधरा राजे
    कोटा: ग्लोबल राजस्थान एग्रीकेट मीट को संबोधित करती वसुंधरा राजे
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add

नोटबंदी पर राहुल का शोर उनकी अपनी पीड़ा को दर्शाता है - भाजपा - पीटीआई फोटो
  • Photograph Photograph  (1)
  • नोटबंदी पर राहुल का शोर उनकी अपनी पीड़ा को दर्शाता है : भाजपा

  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:24 HRS IST

नयी दिल्ली, 11 जनवरी :भाषा: नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाना बनाने को लेकर राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए भाजपा ने आज कहा कि कांग्रेस नेता गरीब लोगों की नहीं बल्कि अपनी पीड़ा व्यक्त कर रहे हैं, साथ ही कांग्रेस उपाध्यक्ष पर कालाधन रखने वालों का प्रवक्ता बनने का आरोप लगाया।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कांग्रेस उपाध्यक्ष के हाल के विदेश दौरे पर चुटकी लेते हुए कहा कि विदेश से छुट्टी बिता कर लौटने के बाद वे :राहुल: अंशकालिक राजनीतिक की तरह लोगों की परेशानी के बारे में बोले ।

उन्होंने कहा, ‘‘ राहुल गांधी अपनी पीड़ा व्यक्त कर रहे हैं, गरीब लोगों की नहीं। कालेधन के खिलाफ इस लड़ाई में पूरा देश प्रधानमंत्री मोदी का समर्थन कर रहा है। ’’ हुसैन ने संवााददताओं से कहा, ‘‘ वे हताश और परेशान हो गए हैं। वे प्रधानमंत्री के बारे में बार बार एक ही बात बोल रहे हैं और देश उनकी घिसीपिटी बातों को सुनना नहीं चाहता है। वे ऐसे लोगों के प्रवक्ता बन गए हैं जो कालाधन रखते हैं। ’’ उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के ‘जन वेदना’ कार्यक्रम में राहुल गांधी ने कहा कि नोटबंदी के बुरे फैसले के कारण पहली बार दुनिया भर में भारत के प्रधानमंत्री की आलोचना हो रही है । अच्छे दिन तब आयेंगे जब 2019 में केंद्र में कांग्रेस सत्ता में आयेगी ।

राहुल के बयान पर चुटकी लेते हुए शाहनवाज हुसैन ने कहा कि राहुल गांधी कांग्रेस के 2019 में सत्ता में आने के सपने देख रहे हैं जबकि अभी लोकसभा चुनाव काफी दूर है, अभी तो पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, जहां विपक्षी पार्टी का प्रदर्शन काफी खराब रहने वाला है। जारी

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।