25 Nov 2017, 13:8 HRS IST
  • मुंबई : भिवांडी इलाके में ढह गए एक भवन का दृश्य
    मुंबई : भिवांडी इलाके में ढह गए एक भवन का दृश्य
    धनबाद के एक बाजार में लगी भंयकर आग का नजारा
    धनबाद के एक बाजार में लगी भंयकर आग का नजारा
    विदेश मंत्री सुषमा स्चराज फिनलैंड के अपने समकक्ष के संग
    विदेश मंत्री सुषमा स्चराज फिनलैंड के अपने समकक्ष के संग
    मणिकपुर : उत्तर प्रदेश : में ट्रेन पटरी से उतरा
    मणिकपुर : उत्तर प्रदेश : में ट्रेन पटरी से उतरा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अफगान तालिबान वीडियो में नजर आए अमेरिकी और ऑस्ट्रेलियाई बंधक

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:37 HRS IST

काबुल, 12 जनवरी :एएफपी: तालिबान के कब्जे में कैद लोगों के वीडियो में एक अमेरिकी और एक ऑस्ट्रेलियाई नागरिक दिखाई दिया है। इन लोगों का अपहरण पांच माह पहले काबुल से किया गया था।

पुलिस की वर्दी पहने हुए बंदूकधारियों ने सात अगस्त को अफगान राजधानी के बीचोंबीच स्थित अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ अफगानिस्तान से दो प्रोफेसरों का अपहरण कर लिया था। अपहर्ताओं ने इन प्रोफेसरों के वाहन की खिड़की तोड़ते हुए उन्हें अपने कब्जे में लिया था।

कुल 13 मिनट और 35 सेकेंड का वीडियो कल तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने प्रसारित किया। यह वीडियो इस बात का पहला प्रत्यक्ष प्रमाण देता है कि ये दोनों जीवित हैं।

इस वीडियो के आने से पहले अमेरिकी विशेष अभियान दलों ने अगस्त में इन दोनों नागरिकों को बचाने के लिए गोपनीय तरीके से छापेमारी की थी। हालांकि उनका प्रयास विफल रहा था।

पंेटागन ने सितंबर में कहा कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अफगानिस्तान के एक अज्ञात स्थान पर छापेमारी को मंजूरी दी थी लेकिन बंधक वहां नहीं थे।

वर्ष 2006 में खुली अमेरिकन यूनिवर्सिटी ऑफ अफगानिस्तान से प्रतिक्रिया के लिए संपर्क नहीं किया जा सका। इस संस्थान में 1700 से ज्यादा छात्र पढ़ते हैं। यहां पश्चिमी देशों से कई संकाय सदस्य आते हैं।

इन अपहरणों ने अफगानिस्तान में विदेशियों पर बढ़ते खतरों को रेखांकित कर दिया।

अफगान राजधानी में संगठित आपराधिक गिरोह फैले हुए हैं। ये गिरोह फिरौती के लिए अकसर अपहरण करते हैं। इसके लिए वे प्राय: विदेशियों और धनी अफगानों को निशाना बनाते हैं और कई बार इन्हें उग्रवादी समूहों को भी सौंप देते हैं।

एएफपी श्वेता मनीषा वि16 01121134 दि

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।