27 Feb 2017, 00:41 HRS IST
  • लिमा, पेरू: पानी के रंगीन फव्वारे के पास लुत्फ उठाते लोग
    लिमा, पेरू: पानी के रंगीन फव्वारे के पास लुत्फ उठाते लोग
    पुणे: पहले टैस्ट मैच में जीत का जश्न मनाते मेहमान कंगारू
    पुणे: पहले टैस्ट मैच में जीत का जश्न मनाते मेहमान कंगारू
    बेंगलुरू: एक कार्यक्रम में बाबा रामदेव और फोगाट बहनें
    बेंगलुरू: एक कार्यक्रम में बाबा रामदेव और फोगाट बहनें
    भोपाल : तीन दिवसीय योग महोत्सव में भाग लेते युवा
    भोपाल : तीन दिवसीय योग महोत्सव में भाग लेते युवा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भाजपा ने चमेल सिंह के परिजनों को मुआवजा देने की मांग की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:51 HRS IST

जम्मू, 12 जनवरी :भाषा: भारतीय जनता पार्टी ने आज राज्य विधानसभा में पाकिस्तान की जेल में जान गंवाने वाले, जम्मू के नागरिक चमेल सिंह को 10 लाख रपये का मुआवजा और उसे शहीद का दर्जा देने की मांग दोहराई।

चमेल सिंह की वर्ष 2013 में पाकिस्तान की कोट लखपत जेल में मौत हो गयी थी। भाजपा का कहना है कि सरकार से लंबे समय से चमेल सिंह के परिजनों को मुआवजा देने की मांग की जा रही है, लेकिन अभी तक इस पर ध्यान नहीं दिया गया है।

भाजपा के विधायक सत शर्मा ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान की कोट लखपत जेल में जान गंवाने वाले चमेल सिंह के परिजनों को 10 लाख रपये का मुआवजा और उसे शहीद का दर्जा दिये जाने की मांग बार बार की गई लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया।

शर्मा ने राज्य विधानसभा में शून्यकाल के दौरान आज कहा,, ‘‘मैंने कई बार इसकी मांग की, लेकिन लगता है कि शून्य काल में इसे उठाना बेमानी है। मैं सरकार से चमेल सिंह के परिजनों को 10 लाख रपये का मुआवजा और चमेल सिंह को शहीद का दर्जा दिये जाने की मांग कर रहा हूं, लेकिन अभी तक कुछ नहीं किया गया।’’ परिजनों के मुताबिक, जम्मू के अखनूर निवासी चमेल सिंह वर्ष 2008 में अंतरराष्ट्रीय सीमा के करीब अपने खेतों में काम करने के दौरान लापता हो गये थे।

बाद में पता चला कि पाकिस्तान ने उन्हें जासूसी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया और पांच साल कैद की सजा सुनाई थी।

जब उनकी सजा पूरी होने वाली थी, तब पाकिस्तान की कोट लखपत जेल में उनकी मौत हो गयी। ऐसी खबरें आई थीं कि मौत से दो दिन पहले जेल के कर्मचारियों ने उन्हें बेहद निर्ममता से पीटा था।

पाकिस्तान ने उनकी मौत के दो माह से ज्यादा समय के बाद सिंह के शव को भारतीय अधिकारियों को सौंपा था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।