23 Sep 2017, 16:26 HRS IST
  • प्रधानमंत्री बडोदरा—वारणसी महामाना एक्सप्रेस को हरी झंडी​ दिखाते
    प्रधानमंत्री बडोदरा—वारणसी महामाना एक्सप्रेस को हरी झंडी​ दिखाते
    दिल्ली में बारिश के दौरान सूखे डाल पर बैठे पक्षियों का दल
    दिल्ली में बारिश के दौरान सूखे डाल पर बैठे पक्षियों का दल
    जम्मू : सीमा पार से दागे गए मोर्टार को दिखाते गांववासी
    जम्मू : सीमा पार से दागे गए मोर्टार को दिखाते गांववासी
    अहमदाबाद : नवरात्रि महोत्सव का मनोरम दृश्य
    अहमदाबाद : नवरात्रि महोत्सव का मनोरम दृश्य
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • मुझे घरेलू और विदेशी मोर्चे पर विरासत में मिली अव्यवस्था :ट्रंप

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 1:46 HRS IST

वाशिंगटन, 16 फरवरी :भाषा: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आज कहा कि उनके प्रशासन को विरासत में अव्यवस्था मिली है और उन्होंने अपने प्रशासन को उसके हक का श्रेय नहीं देने के लिए ‘बेईमान मीडिया’ को जिम्मेदार ठहराया।

ट्रंप ने अपने पहले सोलो संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘जैसा कि आप जानते हैं, हमारे प्रशासन को सरकार और अर्थव्यवस्था के मामले में कई समस्याएं विरासत में मिलीं। अगर ईमानदारी से कहा जाए तो मुझे विरासत में अव्यवस्था मिली। यह अव्यवस्था है। देश और विदेश के स्तर पर अव्यवस्था है।’’ उन्होंने कहा कि कंपनियां अमेरिका छोड़ रही हैं और नौकरियां मेक्सिको और अन्य स्थानों पर जा रही हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘नौकरियां देश के बाहर जा रही हैं। आप देखें कि हमारा देश छोड़कर मेक्सिको और अन्य स्थानों पर जा रही कंपनियों के साथ क्या हो रहा है। निम्न वेतन, निम्न मजदूरी, बड़े पैमाने पर विदेशों में अस्थिरता है। इससे फर्क नहीं पड़ता है कि आप किधर देखते हैं। पश्चिम एशिया एक मुसीबत है। उत्तर कोरिया। हम इसका खयाल रखेंगे। हम इन सबका खयाल रखने जा रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं सिर्फ आपको बताना चाहता हूं कि मुझे विरासत में अव्यवस्था मिली। पहले दिन से हमारे प्रशासन ने इन चुनौतियों से निपटने के लिए काम करना शुरू किया।’’ ट्रंप ने कहा कि विदेश मामलों पर उनके प्रशासन ने कई विदेशी नेताओं के साथ पहले ही काफी रचनात्मक बातचीत शुरू कर दी है ताकि दुनिया के सर्वाधिक अशांत क्षेत्रों में स्थिरता, सुरक्षा और शांति की ओर बढ़ा जा सके।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में