21 Jun 2018, 15:46 HRS IST
  • कोलकाता : अलीपुर चिडियाघर में हाथी को नहलाते महावत
    कोलकाता : अलीपुर चिडियाघर में हाथी को नहलाते महावत
    पुंछ:रक्षामंत्री निर्मला सितारमण शहीद औरंगजेब के घर सांत्वना देने पहुंची
    पुंछ:रक्षामंत्री निर्मला सितारमण शहीद औरंगजेब के घर सांत्वना देने पहुंची
    सूरत : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस वर्ष 2018 का नजारा
    सूरत : अंतरराष्ट्रीय योग दिवस वर्ष 2018 का नजारा
    विश्वकप फुटबॉल में मिश्र के खिलाफ मिली जीत से आनंदित रुसी खिलाडी
    विश्वकप फुटबॉल में मिश्र के खिलाफ मिली जीत से आनंदित रुसी खिलाडी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • एनजीटी ने यमुना डूब क्षेत्र में खुले में शौच करने और कचरा फेंकने पर प्रतिबंध लगाया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:8 HRS IST

नयी दिल्ली, 19 मई :भाषा: राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने यमुना के डूबक्षेत्र में खुले में शौच करने और कचरा फेंकने पर आज प्रतिबंध लगा दिया और इस कड़े आदेश का उल्लंघन करने वालों से पांच हजार रूपए का पर्यावरण मुआवजा वसूलने की घोषणा की।

एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने दिल्ली जलबोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी की अध्यक्षता वाली एक समिति भी गठित की। इस समिति का काम नदी की सफाई से जुड़े काम की देखरेख करना है। उन्होंने इस समिति को नियमित अंतरालों पर रिपोर्टें देने के लिए कहा है।

दिल्ली सरकार और नगम निगमों को निर्देश दिया गया कि वे उन उद्योगों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करें, जो आवासीय इलाकों में चल रहे हैं और नदी के प्रदूषण का बड़ा स्रोत हैं।

हरित पैनल ने कहा कि यमुना तक पहुंचने वाले प्रदूषण के लगभग 67 प्रतिशत हिस्से का शोधन दिल्ली गेट और नजफगढ़ स्थित दो दूषित जल शोधन संयंत्रों द्वारा किया जाएगा। ऐसा ‘मैली से निर्मल यमुना पुनरूद्धार परियोजना 2017’ के चरण एक के तहत किया जाएगा।

शीर्ष हरित पैनल ने एक मई को दिल्ली गेट और ओखला स्थित दूषित जल शोधन संयंत्रों :एसटीपी: की जांच का आदेश दिया था। इसके पीछे का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि यमुना पहुंचने से पहले दूषित जल साफ हो जाए। पैनल ने इन संयंत्रों के कामकाज के बारे में रिपोर्ट भी मांगी थी।

अधिकरण को बताया गया कि दूषित जल को साफ करने के लिए कुल 14 एसटीपी परियोजनाएं बनाईोनी हैं। निश्चित तौर पर दिल्ली जल बोर्ड को इनमें से सात का निर्माण अपने फंड से करना है।

एनजीटी ने ये निर्देश ‘मैली से निर्मल यमुना पुनरूद्धार परियोजना 2017’ के क्रियांवयन की निगरानी की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई के दौरान दिए।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।