21 Jul 2017, 07:53 HRS IST
  • नई दिल्ली में हुई भारी बारिश के बाद का नजारा
    नई दिल्ली में हुई भारी बारिश के बाद का नजारा
    नयागढ: ओड़िसा के नयागढ जिले के कुरल गांव में हल चलाता किसान
    नयागढ: ओड़िसा के नयागढ जिले के कुरल गांव में हल चलाता किसान
    दिल्ली: भारी बारिश के बाद पानी से भरी गलियों से गुजरते विद्यार्थी
    दिल्ली: भारी बारिश के बाद पानी से भरी गलियों से गुजरते विद्यार्थी
    कोलंबो: एक प्रशंसक के सेल्फी खिंचवाते क्रिकेटर इशांत शर्मा
    कोलंबो: एक प्रशंसक के सेल्फी खिंचवाते क्रिकेटर इशांत शर्मा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारत के पहले विदेशी महिला मुक्केबाजी कोच ने कहा, यह एक मिशन है

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:54 HRS IST

नयी दिल्ली, 16 जुलाई (भाषा) महिला मुक्केबाजों के लिये भारत के पहले विदेशी कोच स्टीफन कोटालोर्डा अपनी इस नयी जिम्मेदारी को महज काम के बजाय मिशन के तौर पर ले रहे हैं और उन्होंने कहा कि कई चुनौतियों के बावजूद उनके दिमाग में देश के लिये ओलंपिक में उपलब्धि हासिल करना है।

फ्रांसीसी कोटालोर्डा अगले सप्ताह भारत आएंगे। इससे पहले उन्हें जून के पहले सप्ताह में यहां पहुंचना था लेकिन कागजी कार्रवाई के कारण उनके आने में देरी हुई।

यूरोपीय मुक्केबाजी परिसंघ कोच आयोग के सदस्य 41 वर्षीय कोटालोर्डा ने पीटीआई को ईमेल पर दिये गये साक्षात्कार में भारत के लिये अपनी योजनाओं का खुलासा किया।

उन्होंने कहा, ‘‘मेरी इस मिशन में दिलचस्पी थी क्योंकि इसका उद्देश्य ओलंपिक के लिये महिला टीम तैयार करना था। भारतीय मुक्केबाजी अच्छी तरह से विकास कर रही है और इसका सबूत यह है कि भारत इस साल युवा एवं जूनियर विश्व चैंपियनशिप का आयोजन कर रहा है। ’’ भारत नवंबर में गुवाहाटी में इस चैंपियनशिप का आयोजन करेगा।

फ्रांस में महिलाओं के लिये अनुभवी कोच होने के साथ कोटालोर्डा एआईबीए पेशेवर मुक्केबाजी और विश्व मुक्केबाजी सीरीज से भी पंजीकृत कोच हैं। उनसे काफी उम्मीदें की जा रही हैं। उनके पद भार संभालने के कुछ महीनों बाद ही सीनियर महिला मुक्केबाजों को नवंबर में वियतनाम में एशियाई चैंपियनशिप में हिस्सा लेना है।

भारत में महिला मुक्केबाजी के बारे में वह कोटालोर्डा जितना भी जानते हैं, उससे काफी प्रभावित हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय महिला मुक्केबाजों ने देश के लिये पदक जीते हैं और आपके पास एम सी मेरीकोम के रूप में दुनिया की मशहूर चैंपियन है। जहां तक एशिया में मुक्केबाजी का सवाल है तो भारत बड़ा देश है। ’’ कोटालोर्डा ने कहा, ‘‘मेरी त्वरित योजना जितना संभव हो उतने अधिक मुक्केबाजों से मिलना है जिससे कि मैं लड़कियों के आम स्तर का अनुमान लगा सकूं। मैं अपने साथ काम करने वाले अन्य कोच और फिर भारतीय प्रणाली के बारे में भी जानना चाहूंगा। ’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।