18 Jun 2018, 18:45 HRS IST
  • वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    वृद्धि दर को दस प्रतिशत के पार पहुंचाना चुनौती, महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे: मोदी
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    सुषमा ने अंतर ब्रिक्स सहयोग को मजबूत करने की दिशा में भारत के योगदान की इच्छा जताई
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    कश्मीर में चिंताजनक रूप से बढ़ी है आतंकवादी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती : सुरक्षा एजेंसियां
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
    भारत, सिंगापुर आर्थिक, रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाने पर सहमत
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • शरीफ के विधिक दल ने पनामागेट जांच पैनल की रिपोर्ट खारिज की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:34 HRS IST

सज्जाद हुसैन इस्लामाबाद, 17 जुलाई (भाषा) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके बच्चों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज करने की सिफारिश करने वाली जांच पैनल की रिपोर्ट को शरीफ के विधिक दल ने आज अवैध और पक्षपातपूर्ण बताते हुए खारिज कर दिया। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के हाई प्रोफाइल पनामागेट मामले में सुनवायी आज फिर शुरू कर दी।

शीर्ष अदालत ने 67 वर्षीय शरीफ के खिलाफ धन शोधन के आरोपों की जांच के लिए छह सदस्यीय संयुक्त जांच दल : जेआईटी: का गठन किया था जिसने 60 दिन की पड़ताल के बाद रिपोर्ट 10 जुलाई को अदालत को सौंप दी थी।

जेआईटी रिपोर्ट का जवाब शरीफ की ओर से ख्वाजा हैरिस ने पेश किया, इसमें पैनल रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण और वास्तविक जनादेश का उल्लंघन बताते हुए अस्वीकार कर दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘ जेआईटी रिपोर्ट ना केवल कानून के विरूद्ध है बल्कि देश के संविधान के भी खिलाफ है इसलिए इसके निष्कर्षों का कोई कानूनी मोल नहीं है।’’ उन्होंने विदेशों से प्राप्त दस्तावेजों पर भी आपत्ति जताई और कहा कि यह देश के कानून के खिलाफ है।

उन्होंने अदालत से रिपोर्ट का खंड 10 उपलब्ध करवाने का अनुरोध किया। इस खंड को जेआईटी के अनुरोध पर गोपनीय रखा गया है।

हैरिस ने अदालत से जेआईटी की रिपोर्ट अस्वीकृत करने का भी अनुरोध किया।

उनकी ओर से वित्त मंत्री इशहाक डार ने सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार कार्यालय में जेआईटी रिपोर्ट पर आपत्तियां अलग से दर्ज करवाई।

इससे पहले, इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ के प्रतिनिधि नईम बुखारी ने अपनी दलीलों में जेआईटी की सराहना की और अदालत से अनुरोध किया कि वह रिपोर्ट को लागू करे और प्रधानमंत्री को अयोग्य करार दे।

बाद में पीटीआई के फवाद चौधरी ने मीडिया से कहा कि शरीफ प्रधानमंत्री बने रहने का नैतिक और राजनीतिक आधार खो चुके हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘ वह ना केवल अयोग्य होंगे बल्कि जेल भी जाएंगे।’’ सूचना राज्यमंत्री मरियम औरंगजेब ने कहा कि सरकार अदालत का फैसला स्वीकार करेगी।

अदालत ने सुनवाई कल तक के लिए टाल दी है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।