20 Feb 2018, 12:59 HRS IST
  • भाजपा के रग-रग में है लोकतंत्र - मोदी (पीटीआई फोटो)
    भाजपा के रग-रग में है लोकतंत्र - मोदी (पीटीआई फोटो)
    चेन्नई:इंडियन ओपन टेनिस में शिरक्त करते युकी भांबरी
    चेन्नई:इंडियन ओपन टेनिस में शिरक्त करते युकी भांबरी
    शिमला में वेलेनटाइन डे का जश्न का दृश्य
    शिमला में वेलेनटाइन डे का जश्न का दृश्य
    भुवनेश्वर में महाशिवरात्रि महोत्सव का नजारा
    भुवनेश्वर में महाशिवरात्रि महोत्सव का नजारा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • नये द्वीप बांग्लादेश के भूमि संकट का कर सकते हैं हल: विशेषज्ञ

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:12 HRS IST

ढाका, 14 नवंबर (एएफपी) बांग्लादेश के आसपास जल क्षेत्र में पिछले एक दशक में दर्जनों नये द्वीप उभर गए हैं। इससे इस देश को समुद्र के बढ़ते जल स्तर के खतरे से एक संभावित हल मिला है।

सरकार ने कल कहा कि 125,370 एकड़ क्षेत्र के साथ 29 द्वीप 2007 से बंगाल की खाड़ी में उभरे हैं।

दरअसल, हर साल हिमालयी नदियां एक अरब टन गाद लाती है और उन्हें बांग्लादेश तट के पास बंगाल की खाड़ी में जमा करती है जिससे छिछले जल में द्वीप बनते हैं।

इनमें से कई द्वीप बसे हुए हैं। वहीं, विशेषज्ञों ने एएफपी को बताया कि ये ‘ग्लोबल वार्मिंग से पैदा हुए खतरे को कम कर सकते हैं।

सेंटर फॉर इनवायरनमेंट एंड ज्योग्राफिक इनफॉरमेशन सर्विसेज के प्रमुख ममीनुल हक सरकार ने कहा, ‘‘हर साल बांग्लादेश में नयी भूमि उभरती है और नदियां और समुद्र नयी भूमि को निगल रहे हैं। ’’ उन्होंने बताया कि ढाका शोध केंद्र के अध्ययन में पाया गया है कि भूक्षेत्र में 12 से 14 वर्ग किमी क्षेत्र की वृद्धि हुई है।

ज्यादातर नयी भूमि मेघना नदी के मुहाने के पास हैं। एक द्वीप पर रोहिंग्या शरणार्थियों के रहने की भी बात सामने आई है।

एएफपी सुभाष सुजाता एकता ढाका वि41 1114 2019 ढाका 000320171114195610

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।