23 Sep 2018, 05:55 HRS IST
  • जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
    2019 में जीत के बाद 50 साल तक पार्टी को कोई हराने वाला नहीं होगा :शाह
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारत का अजेय अभियान जारी, म्यांमा को 2-2 से ड्रा पर रोका

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 22:0 HRS IST

मडगांव, 14 नवंबर (भाषा) कप्तान सुनील छेत्री और जेजे लालपेखलुवा के शानदार खेल से भारत ने आज यहां दो बार पिछड़ने के बाद वापसी करके म्यांमा के खिलाफ एएफसी एशिया कप 2019 क्वालीफायर्स के दूसरे चरण का मैच 2-2 से ड्रा खेलकर अपना अजेय अभियान जारी रखा।

म्यांमा के लिये यान नैंग ओ (पहले मिनट) और क्याउ को को (19वें मिनट) ने गोल करके अपनी टीम को दो बार बढ़त दिलायी। भारत की तरफ से छेत्री (13वें मिनट) और जेजे (69वें मिनट) ने गोल दागे।

भारतीय टीम पहले ही एशिया कप के लिये क्वालीफाई कर चुकी है। उसने पिछले 13 मैचों से एक भी मैच नहीं गंवाया है। इस बीच उसने 11 मैच जीते और दो मैच ड्रा कराये। भारत अब अगले साल मार्च में किर्गीस्तान से भिड़ेगा। भारत के लिये मैच की शुरूआत बेहद निराशाजनक रही क्योंकि म्यांमा खेल के 17वें सेकेंड में ही बढ़त हासिल कर दी जो कि फुटबाल इतिहास के सबसे तेज गोल में से एक है। फतरोडा स्टेडियम में अभी गेंद पर पहली किक लगी ही थी कि गोल भी हो गया।

थीन थान विन ने बायें छोर से यान नैंग ओ की तरफ क्रास बढ़ाया और उन्होंने हेडर से गोल करके भारतीय खिलाड़ियों के साथ स्टेडियम में मौजूद लगभग 5500 दर्शकों को भी हतप्रभ कर दिया।

भारतीय टीम ने हालांकि बराबरी का गोल करने में देर नहीं लगायी। खेल के 12वें मिनट में हिलियांग बो बो ने छेत्री को बाक्स के अंदर गिरा दिया जिसके कारण भारत को पेनल्टी मिली। भारतीय कप्तान स्वयं पेनल्टी लेने के लिये और उन्होंने उस पर आसानी से गोल करके स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया। यह छेत्री का भारत की तरफ से 57वां गोल था।

म्यांमा ने हालांकि इसके छह मिनट बाद गोल करके फिर से बढ़त हासिल कर दी। इसमें भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह की भी गलती थी जो क्याउ को को के बाक्स के बाहर से जमाये गये शाट को नहीं समझ पाये। लगभग 20 गज की दूरी से जमाया गया शाट आसानी से भारतीय गोल में घुस गया।

जारी

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।