16 Jul 2018, 04:33 HRS IST
  • राजधानी दिल्ली मेें भयंकर गर्मी के बाद बारिश का आनंद लेते बच्चे
    राजधानी दिल्ली मेें भयंकर गर्मी के बाद बारिश का आनंद लेते बच्चे
    अहमदाबाद : जगन्नाथ रथ यात्री रंगारंग तैयारी
    अहमदाबाद : जगन्नाथ रथ यात्री रंगारंग तैयारी
    महिलाओं की 400 मीटर दौड की विश्व चैम्पियन भारत की हिमा दास
    महिलाओं की 400 मीटर दौड की विश्व चैम्पियन भारत की हिमा दास
    फोनेक्सि में लगी आग को बुझाने में दमकल कर्मी जी जान से कोशिश करते
    फोनेक्सि में लगी आग को बुझाने में दमकल कर्मी जी जान से कोशिश करते
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • टीबी के मरीजों को जल्द ही सरकार से मासिक सामाजिक सहायता मिलने की उम्मीद

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:38 HRS IST

नयी दिल्ली, 13 जनवरी ( भाषा) टीबी के मरीजों को सरकार 500 रुपये की मासिक सामाजिक सहायता मुहैया कराने की योजना बना रही है ताकि वे बीमारी से उबरने तक अपने लिए पोषक आहार खरीद सकें और अपना यात्रा खर्च निकाल सकें।

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रस्ताव के तहत सहायता राशि मरीजों को दी जाएगी और इसका उनकी आय के स्तर से कोई लेना देना नहीं होगा। टीबी के मरीजों की संख्या करीब 25 लाख है।

अधिकारी ने बताया कि व्यय वित्त समिति ने प्रस्ताव को मंजूरी दे दी और ‘मिशन स्टीरिंग ग्रुप’ के पास भेज दिया है।

यह पहल ‘टीबी उन्मूलन के लिए राष्ट्रीय रणनीतिक योजना’ का हिस्सा है जिसके माध्यम से स्वास्थ्य मंत्रालय ने वर्ष 2025 तक तपेदिक के उन्मूलन का लक्ष्य रखा है।

अधिकारी ने कहा, ‘‘तपेदिक से पीड़ित करीब 25 लाख मरीजों को शीघ्र ही 500 रूपये प्रतिमाह मिलेंगे। इस राशि का मरीज की आय से कोई सरोकार नहीं होगा और यह बतौर सामाजिक सहायता दी जाएगी। मरीजों को उनके आधार नंबर और चिकित्सा दस्तावेजों के आधार पर आर्थिक मदद देने के लिए यह व्यवस्था की जाएगी।’’

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, हर साल भारत में टीबी के अनुमानित 28 लाख मामले होते हैं जिनमें से 17 लाख मामले दर्ज किए जाते हैं।

अधिकारी ने कहा, ‘‘स्वास्थ्य मंत्रालय का लक्ष्य वर्ष 2025 तक टीबी के मामलों में 90 फीसदी की कमी लाना है और साल 2030 तक इस बीमारी से होने वाली मौत के मामले 95 फीसदी घटाना है। यह कार्य ‘रिवाइज्ड नेशनल टीबी कंट्रोल प्रोग्राम’ के तहत किया जाएगा।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।