21 Jan 2018, 20:5 HRS IST
  • दादा साहेब फालके सम्मान से नवाजे गए सौमित्र चटर्जी अपर्णा सेन के संग
    दादा साहेब फालके सम्मान से नवाजे गए सौमित्र चटर्जी अपर्णा सेन के संग
    बौधगया में दो बम बरामद होने के बाद सुरक्षा कर्मी सतर्क
    बौधगया में दो बम बरामद होने के बाद सुरक्षा कर्मी सतर्क
    बेंगलूर : बेलंडूर झील में फिर से लगी आग बुझाते दमकल कर्मी
    बेंगलूर : बेलंडूर झील में फिर से लगी आग बुझाते दमकल कर्मी
    मेलबर्न:जीत के बाद खुशी मनाती चेक गणराज्य की केरोलिना पिल्सकोव
    मेलबर्न:जीत के बाद खुशी मनाती चेक गणराज्य की केरोलिना पिल्सकोव
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • तारापीठ में मूर्ति के पवित्र स्नान के दौरान श्रद्धालुओं को जाने की इजाजत नहीं होगी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:52 HRS IST

सूरी (पश्चिम बंगाल), 13 जनवरी (भाषा) तारापीठ के प्रसिद्ध काली मंदिर के प्रशासन ने सुबह के समय मूर्ति को पवित्र स्नान कराए जाने के दौरान श्रद्धालुओं के वहां जाने की सदियों पुरानी परंपरा बंद करने का फैसला किया है ।

बीरभूम जिले में मंदिर की शैवायत समिति को आशंका है कि काले रंग में पत्थरों वाली मूर्ति पर श्रद्धालुओं द्वारा अगुरू, चंदन, सिंदूर और अन्य सामग्री लगाने से इसे नुकसान पहुंच सकता है ।

समिति के सचिव ध्रुव चटर्जी ने कहा, ‘‘यह पाया गया है कि श्रद्धालुओं द्वारा पूजन सामग्री लगाने से मूल मूर्ति को नुकसान हो सकता है ।’’ अतीत में मूर्ति पर लगायी जाने वाली सामग्री प्राकृतिक होती थी लेकिन आजकल इनमें मिलावट होने के कारण मूर्ति को नुकसान पहुंच रहा है ।

इसके अलावा, पवित्र स्नान के बाद अन्य धार्मिक क्रिया से भी असर पड़ रहा है क्योंकि ज्यादा जगह नहीं होने के बावजूद मंदिर के भीतर कई श्रद्धालु मौजूद रहते हैं ।

मंदिर में नियमित दर्शन के दौरान श्रद्धालु तीन फुट लंबी चांदी की मूर्ति को देखते हैं। सूत्रों ने बताया कि भीड़ को संभालना मुश्किल होता जा रहा है और इसलिए पवित्र स्नान के दौरान श्रद्धालुओं को इस रस्म से रोकने का फैसला किया गया है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।