19 Oct 2018, 08:11 HRS IST
  • कोलकाता: दुर्गा पूजा पंडाल में पूजा करते श्रद्धालु
    कोलकाता: दुर्गा पूजा पंडाल में पूजा करते श्रद्धालु
    महानवमी पर विंध्याचल धाम में  हवन करते भक्तगण
    महानवमी पर विंध्याचल धाम में हवन करते भक्तगण
    रांची: महानवमी के अवसर पर पूजन का दृश्य
    रांची: महानवमी के अवसर पर पूजन का दृश्य
    कोलकाता: दुर्गा पूजा पंडाल का मनमोहक दृश्य
    कोलकाता: दुर्गा पूजा पंडाल का मनमोहक दृश्य
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • बांग्लादेश को 15 साल तक 300 मेगावाट बिजली आपूर्ति करेगी एनटीपीसी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:22 HRS IST

नयी दिल्ली, 13 फरवरी (भाषा) देश की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी एनटीपीसी की अनुषंगी इकाई एनवीवीएन (एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम) ने बांग्लादेश को 15 वर्ष तक 300 मेगावाट विद्युत आपूर्ति का ठेका हासिल किया है। कंपनी यह बिजली 3.42 रुपये प्रति यूनिट के अनुमानित शुल्क पर देगी।

सूत्रों के अनुसार कंपनी को बांग्लादेश पावर डेवलपमेंट बोर्ड (बीपीडीबी) की निविदा के तहत 300 मेगावाट बिजली की आपूर्ति से हर साल 900 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त होगा।

मोटा-मोटी अनुमान के तहत कंपनी 3.42 रुपये प्रति यूनिट पर यह बिजली बांग्लादेश को आपूर्ति करेगी।

कंपनी ने एक बयान में कहा, ‘‘11 फरवरी को खुली वित्तीय बोलियों के आधार पर एनटीपीसी लि. की पूर्ण अनुषंगी एनवीवीएन 300 मेगावाट बिजली की अल्पकाल और दीर्घकाल दोनों में आपूर्ति के लिये सफल बोलीदाता के रूप में उभरी है।’’ हालांकि, कंपनी ने बोली में लगाये गये शुल्क के बारे में कोई जानकारी नहीं दी। कंपनी के अनुमान के अनुसार चालू वित्त वर्ष में अप्रैल से दिसंबर के बीच नौ महीनों की अवधि में औसत शुल्क 3.26 रुपये प्रति यूनिट रहा।

एनटीपीसी विद्युत व्यापार निगम (एनवीवीएन), अडाणी ग्रुप, पीटीसी तथा सिंगापुर की सेंबकार्प ने 11 जनवरी तक बोली लगायी।

एनटीपीसी ने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच 500 मेगावाट ‘एचवीडीसी (हाई-वोल्टेड डायरेक्ट करंट) इंटर- कनेक्शन’ परियोजना के चालू होने के बाद बिजली की आपूर्ति जून 2018 से शुरू होने की संभावना है।

भारत फिलहाल 600 मेगावाट बिजली बांग्लादेश को निर्यात कर रहा है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।