10 Dec 2018, 05:53 HRS IST
  • निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं वर्षगांठ पर मशाल जुलूस
    भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं वर्षगांठ पर मशाल जुलूस
    कोलकाता में डूबते सूरज का एक नजारा
    कोलकाता में डूबते सूरज का एक नजारा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • रूस है दुनिया में अस्थिरता फैलाने वाली गैरजिम्मेदार ताकत: टिलरसन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:52 HRS IST



ललित के झा

वाशिंगटन, 13 मार्च( भाषा) अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने आज रूस को दुनिया में अस्थिरता फैलाने वाली एक गैरजिम्मेदार ताकत बताया और ब्रिटेन में पूर्व जासूस और उसकी बेटी पर जहर से हमला करने में कथित संलिप्तता पर उसकी आलोचना की।

रूस के पूर्व जासूस सर्जेइ स्क्रीपल(66) और बेटी यूलिया(33) को पिछले हफ्ते जहर दिया गया था। इसी पदार्थ की चपेट में एक पुलिस कर्मी भी आ गया था। तीनों की हालत गंभीर है।

ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने कल कहा था कि इस बात की‘‘ प्रबल संभावना’’ है कि स्क्रीपल पर जहर से हमला करने के पीछे रूस हो सकता है। उसने ब्रिटेन की विदेशी खुफिया एजेंसी के लिए काम किया था। रूस ने इन आरोपों का खंडन किया है।

टिलरसन ने कहा अमेरिका ब्रिटेन के साथ एकजुटता से खड़ा रहेगा और हमले को लेकर अपनी प्रतिक्रिया का समन्वय करेगा।

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘ हमें ब्रिटेन की जांच और उसकेइस आकलन पर पूरा यकीन है कि पिछले हफ्तेसैलिसबरी में जहर से किए गए हमले के पीछे रूस हो सकता है।’’

टिलरसन ने कहा कि ऐसे हमले का कोई स्पष्टीकरण नहीं हो सकता है। यह एक संप्रभु राष्ट्र की जमीन पर एक नागरिक की हत्या की कोशिश है। अमेरिका इस बात को लेकर स्तब्ध है कि रूस एक बार फिर से ऐसे व्यवहार में शामिल होता प्रतीत हो रहा है।

उन्होंने कहा कि यूक्रेन से लेकर सीरिया और अब ब्रिटेन तक रूस खुले तौर पर अन्य राष्ट्रों की संप्रभुता और उनके नागरिकों की जिंदगियों का अनादर कर रहा है।

अफ्रीका की यात्रा कर रहे टिलरसन ने कहा किहम सहमत हैं कि जुर्म को अंजाम देने वाले और इसका आदेश देने वालोंदोनों को उचितरूप से गंभीर परिणामों का सामना करना पड़े। हम अपने सहयोगी ब्रिटेन के साथ एकजुटता से खड़े हैं और अपनी प्रतिक्रिया का नजदीक से समवन्य करना जारी रखेंगे।

व्हाइट हाउस ने रसायन हमले की निंदा करते हुए इसे‘ स्तब्ध’ करने वाला बताया।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ हम अपने सहयोगी ब्रिटेन के साथ खड़े हैं।’’

सारा ने कहा कि अमेरिका घटना पर नजदीक से नजर रख रहा है और यह बहुत गंभीर है। ब्रिटेन की धरती पर ब्रिटेन के नागरिक पर जहर से हमला करना हैरान करने वाला है।

उन्होंने कहा कि हमला अविचारी, अविवेकी और गैरजिम्मेदाराना है। हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं। हम पीड़ित, उनके परिवार के साथ हमदर्दी जाहिर करते हैं और ब्रिटेन सरकार को समर्थन देते हैं। हम अपने सबसे करीबी सहयोगी के साथ खड़े हैं, जिसके साथ हमारे खास रिश्ते हैं।

दूसरी ओर एएफपी की खबर के मुताबिक रूस ने ब्रिटेन पर फुटबॉल विश्व कप से पहले‘ विश्वास की कमी’’ पैदा करने का आरोप लगाया।

मंत्रालय ने कहा कि हम बार बार यह चेता चुके हैं कि( गर्मियों में) फीफा विश्व कप शुरू होने से पहले पश्चिमी मीडिया रूस को बदनाम करने के लिए और उसके प्रति विश्वास में कमी पैदा करने के लिए अभियान चला सकता है, क्योंकि वह खेल के कार्यक्रम की मेजबानी कर रहा है।

इसने आधिकारिक फेसबुक पेज पर एक बयान में कहा कि जैसा हमने अंदाजा लगाया था कि ब्रिटेन खास तौर पर सक्रिय है और वह स्वीकार नहीं कर पा रहा है कि2018 के टूर्नामेंट की मेजबानी के लिए ईमानदार तरीके से रूस को चुना गया है।

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जखरोवा ने कहा कि उनके आरोप उकसावे पर आधारित सूचना और राजनीतिक अभियान का हिस्सा हैं।

नाटो महासचिव जेंस स्टोलेनबर्ग ने आज कहा कि संगठन ब्रिटेन में रूस के डबल एजेंट पर हुए हमले से चिंतित है और इस संबंध में ब्रिटिश अधिकारियों के संपर्क में है।

महासचिव कार्यालय की ओर से जारी स्टोलेनबर्ग के बयान के अनुसार, ‘‘ ब्रिटेन बहुत महत्वपूर्ण सहयोगी है और यह घटना नाटो के लिए बहुत चिंता का विषय है। नाटो इस मामले को लेकर ब्रिटिश अधिकारियों के संपर्क में है।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में