26 Sep 2018, 08:10 HRS IST
  • सबसे बड़े लोकतंत्र में राजनीति का अपराधीकरण चिंता का विषय-न्यायालय
    सबसे बड़े लोकतंत्र में राजनीति का अपराधीकरण चिंता का विषय-न्यायालय
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    जन सहयोग से चार साल में पिछले 60 वर्ष से ज्यादा सफाई हुई
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी होने से बच्चों में आत्मविश्वास की कमी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
    ‘बड़ी आंधी’ महसूस कर सरकार के खिलाफ झूठ फैलाने, दुष्प्रचार करने में जुटा विपक्ष : मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारत से वर्ष 2025 तक टीबी के सफाए के लिए प्रधानमंत्री ने अभियान शुरू किया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:24 HRS IST



नयी दिल्ली, 13 मार्च( भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत से वर्ष2025 तक तपेदिक रोग( टीबी) के सफाए के लिए आज एक अभियान की शुरुआत की। विश्व भर से टीबी के खात्मे के लिए तय की गई समयसीमा वर्ष2030 है।



यहां दिल्ली टीबी खात्मा शिखर सम्मेलन के उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री ने टीबी मुक्त भारत अभियान शुरू किया । इसमें टीबी उन्मूलन के लिए राष्ट्रीय रणनीतिक योजना के तहत गतिविधियां होंगी ताकि इस रोग के2025 तक सफाए के लिए मिशन के रूप में आगे बढ़ा जाए।



मोदी ने कहा, ‘‘ विश्वभर में टीबी के उन्मूलन के लिए वर्ष2030 का लक्ष्य तय किया गया है। मैं यह घोषणा करना चाहता हूं कि हमने इस रोग के भारत से सफाए के लिए पांच वर्ष पहले, वर्ष2025 की समयसीमा तय की है।’’



उन्होंने स्थिति का विश्लेषण करने और तौर तरीके बदलने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि टीबी पर रोक लगाने के प्रयासों के अब तक सफल परिणाम सामने नहीं आए हैं और टीबी के देश से सफाए में राज्य सरकारों की अहम भूमिका है।



प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि इस दिशा में उन टीबी फिजिशियन और कर्मचारियों का योगदान महत्वपूर्ण है जिनके संपर्क में मरीज सबसे पहले आता है।



मोदी ने कहा, ‘‘ टीबी के भारत से सफाए में राज्य सरकारों की महत्वपूर्ण भूमिका है। मैंने सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिख इस मिशन से जुड़ने को कहा है।’’

उन्होंने कहा कि इससे सहयोगात्मक संघवाद की भावना को बल मिलेगा।



प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में संक्रामक रोगों में सबसे ज्यादा लोग टीबी से प्रभावित हैं और इससे प्रभावित होने वाले सर्वाधिक लोग गरीब हैं। रोग के सफाए की दिशा में उठाया गया हर एक कदम का सीधा संबंध उन लोगों के जीवन से है।



इस सम्मेलन में शरीक होने के लिए विश्वभर के नेता राष्ट्रीय राजधानी में जुटे हैं। इस सम्मेलन की मेजबानी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय डब्ल्यूएचओ और स्टॉप टीबी पार्टनरशिप के साथ मिलकर कर रहा है।



वर्ष2016 में17 लाख लोगों की मौत की वजह टीबी थी।



यह सम्मेलन सितंबर2018 में टीबी विषय पर होने वाली संयुक्त राष्ट्र उच्च स्तरीय बैठक के लिए मंच तैयार कर देगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।