10 Dec 2018, 06:30 HRS IST
  • निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    निजी स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए नियमों का सख्ती से पालन कराएं राज्य
    भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं वर्षगांठ पर मशाल जुलूस
    भोपाल गैस त्रासदी की 34वीं वर्षगांठ पर मशाल जुलूस
    कोलकाता में डूबते सूरज का एक नजारा
    कोलकाता में डूबते सूरज का एक नजारा
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • जनहित याचिकाओं पर नए दिशानिर्देश तय करने का अनुरोध मानने से शीर्ष अदालत का इनकार

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:9 HRS IST

नयी दिल्ली, 11 अक्टूबर (भाषा) उच्चतम न्यायालय ने गुरूवार को उस अनुरोध पर विचार करने से इनकार कर दिया जिसमें जनहित याचिकाओं की सुनवाई के लिए नए दिशानिर्देश तय करने की मांग की गई थी।

पूर्व सॉलिसिटर जनरल और वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ से अनुरोध किया था कि जनहित याचिकाओं से निपटने के लिए दिशानिर्देश होने चाहिए, क्योंकि कुछ लोग या संगठन पूरे देश की नुमाइंदगी करते हुए अदालत का रुख करते हैं और कोई बड़ा आदेश पारित कर दिया जाता है।

कुमार ने 2जी और कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाले के मामलों में उच्चतम न्यायालय के आदेशों का हवाला दिया और न्यायमूर्ति एस के कौल एवं न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की सदस्यता वाली पीठ को बताया कि इस मामले के पक्षों, जिन्हें सुना भी नहीं गया, पर पड़ने वाले प्रभाव पर गौर किए बगैर ही आवंटन रद्द करने वाले आदेश पारित कर दिए गए।

उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे आदेश और फैसले लाइसेंस धारकों एवं अन्य को प्रभावित करते हैं। लेकिन उन्हें नोटिस तक जारी नहीं किया गया। यह देखा जाना चाहिए कि कम से कम नोटिस जारी किए जाएं। उच्चतम न्यायालय के नियमों का पालन किया जाना चाहिए।’’

पीठ ने कहा, ‘‘सॉरी, हम ऐसा नहीं करने वाले।’’

एक केस के सिलसिले में पैरवी के लिए आए पूर्व विधि अधिकारी ने यह अनुरोध तब किया जब उनका मामला खारिज कर दिया गया।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।