17 Jan 2019, 10:39 HRS IST
  • गांधी नगर में पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी वीवीएस लक्ष्मण का सम्मान
    गांधी नगर में पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी वीवीएस लक्ष्मण का सम्मान
    श्रीनगर में बर्फबारी के बाद का एक नजारा
    श्रीनगर में बर्फबारी के बाद का एक नजारा
    प्रयाग कुंभ मेले में लैपटाप में काम करता नागा साधु
    प्रयाग कुंभ मेले में लैपटाप में काम करता नागा साधु
    अमृतसर में पंजाबी पारंपरिक लोहड़ी उत्सव की उमंग
    अमृतसर में पंजाबी पारंपरिक लोहड़ी उत्सव की उमंग
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भाजपा संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिये कटिबद्ध : शाह

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:4 HRS IST

नयी दिल्ली, 11 जनवरी :भाषा: अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में कांग्रेस पर रोड़ा अटकाने का आरोप लगाते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं को आश्वस्त किया कि भाजपा संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिये कटिबद्ध है।

भाजपा की राष्ट्रीय परिषद के अधिवेशन को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि 1950 से जो विचारधारा लेकर चले थे, उसी दिशा में बढ़ रहे हैं ।

उन्होंने कहा कि 2014 के चुनावी घोषणा पत्र में पार्टी ने रामजन्म भूमि पर मंदिर के निर्माण के संबंध में बात कही थी ।

रामलीला मैदान में देशभर से बड़ी संख्या में आए पार्टी नेता, सांसद, विधायक एवं कार्यकर्ताओं के उद्घोष के बीच शाह ने कहा कि भाजपा चाहती है जल्द से जल्द उसी स्थान पर भव्य राम मंदिर का निर्माण हो और इसमें कोई दुविधा नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘ हम प्रयास कर रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट में चल रहे केस की जल्द से जल्द सुनवाई हो । लेकिन कांग्रेस इसमें भी रोड़े अटकाने का काम कर रही है ।’’

शाह ने कहा कि जब गुजरात में चुनाव हो रहे थे, उस समय कांग्रेस के कपिल सिब्बल ने किसी की ओर से उपस्थित होते हुए, इस मामले पर सुनवाई 2019 के चुनाव के बाद कराने का आग्रह किया था । ऐसे में कांग्रेस अपना रूख स्पष्ट करे।

उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता आश्वस्त रहे कि संविधान के तहत राम मंदिर के निर्माण के लिये पार्टी कटिबद्ध थी और कटिबद्ध है ।

उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले की 29 जनवरी को सुनवाई के लिये नयी संविधान पीठ गठित करने का बृहस्पतिवार को फैसला किया क्योंकि वर्तमान पीठ के एक सदस्य न्यायमूर्ति उदय यू ललित ने इसकी सुनवाई से खुद को अलग कर लिया।

बहरहाल, शाह ने नागरिकता संशोधन विधेयक का जिक्र करते हुए कहा कि बंटवारे के बाद हिन्दू, सिख, बौद्ध, ईसाई, पारसी शरणार्थी बनकर आए थे । वे हमारे मेहमान हैं । हम उन्हें नागरिकता देंगे, ऐसा फैसला किया गया है।

भाजपा अध्यक्ष ने अपने संबोधन में करतारपुर कारिडोर के निर्माण के सरकार के फैसले का भी जिक्र किया ।

मोदी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हम सरकार चलाने नहीं बल्कि देश को सुधारने तथा देश के अर्थ तंत्र को गति देने आए हैं । उन्होंने इस संदर्भ में महंगाई को काबू में रखने, विकास को गति देने के साथ नोटबंदी एवं भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की दिशा में उठाये गये कदमों का भी उल्लेख किया ।

उन्होंने कहा कि भाजपा देश में मजबूत सरकार चाहती है जबकि विपक्ष मजबूर सरकार चाहता है। उन्होंने दावा किया कि नरेन्द्र मोदी ही देश में मजबूत सरकार दे सकते हैं।

राष्ट्रीय परिषद की दो दिवसीय बैठक के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज के अलावा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी आदि नेता मौजूद रहे।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।