21 Aug 2019, 19:43 HRS IST
  • मोदी ने फोन पर की ट्रंप से बातचीत
    मोदी ने फोन पर की ट्रंप से बातचीत
    मोदी दो दिवसीय यात्रा पर भूटान पहुंचे
    मोदी दो दिवसीय यात्रा पर भूटान पहुंचे
    ट्रम्प ने इमरान से कहा: भारत के साथ तनाव को द्विपक्षीय तरीके से कम करें
    ट्रम्प ने इमरान से कहा: भारत के साथ तनाव को द्विपक्षीय तरीके से कम करें
    अकबरुद्दीन ने पाकिस्तानी पत्रकारों की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाया
    अकबरुद्दीन ने पाकिस्तानी पत्रकारों की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • छत्तीसगढ़ विधानसभा में विपक्षी दलों का हंगामा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:56 HRS IST

रायपुर, 11 फरवरी :भाषा: छत्तीसगढ़ विधानसभा में आज विपक्षी दलों ने राज्य सरकार पर पुलिस का दुरूपयोग करने और पार्टी कार्यकताओं को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया तथा जमकर हंगामा मचाया।

सदन में आज भारतीय जनता पार्टी और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ :जे: के विधायकों ने राज्य सरकार पर पुलिस का दुरूपयोग करने, कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित करने और धमकी देने का आरोप लगाया। विपक्ष ने इस विषय पर काम रोककर चर्चा कराने की मांग की।

सदन में प्रश्नकाल के बाद विपक्ष के नेता धरमलाल कौशिक और अन्य नेताओं ने कहा कि राज्य सरकार जानबूझकर विपक्षी नेताओं को निशाना बना रही है और यहां भय और आतंक का माहौल बनाने की कोशिश कर रही है।

कौशिक ने कहा कि राज्य में नई सरकार के गठन के बाद भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को जेल भेजने और झूठे मामलों में फंसाने की धमकी दी जा रही है।

विपक्ष के नेताओं ने विधानसभा अध्यक्ष से आग्रह किया कि इस विषय पर काम रोक कर चर्चा कराई जाए। वहीं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के विधायक धर्मजीत सिंह ने इस मुद्दे को लेकर कहा कि राज्य में जनता ने कांग्रेस को बेहतर कामकाज के लिए तथा कल्याणकारी कार्यों के लिए भारी बहुमत दिया है। लेकिन यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि विपक्ष द्वारा उन राजनीतिक नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है जिन्हें मुख्यमंत्री पसंद नहीं करते हैं।

सिंह ने कहा कि ऐसे ही अंतागढ़ टेप कांड मामले में जनता कांग्रेस छत्तीसढ़ :जे: के नेताओं को बेवजह निशाना बनाया जा रहा है।

भाजपा विधायक बृजमोहन अग्रवाल, अजय चंद्राकर, शिवरतन शर्मा और अन्य नेताओं ने आरोप लगाया कि सुकमा, कोरबा, कवर्धा और गरियाबंद जिलों की पुलिस झूठे आरोपों के आधार पर भाजपा के कार्यकर्ताओं को निशाना बना रही है।

भाजपा विधायकों ने आरोप लगाया कि पुलिस से कहा जा रहा है कि वह विपक्षी नेताओं को निशाना बनाएं। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष से आग्रह किया कि इस विषय को स्वीकार करें तथा स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा कराएं।

विपक्षी नेताओं के आग्रह के बाद विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने इसे अग्राहय करने की सूचना दी। इसके बाद विपक्ष के सदस्यों ने सदन में सरकार के खिलाफ नारे लगाना शुरू कर दिया। सदन में हंगामे को देखते हुए अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।

सदन के फिर से शुरू होने के बाद भाजपा विधायकों ने फिर से इस मुद्दे को उठाया और इस पर चर्चा की मांग की। तब सभापति सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि अध्यक्ष ने पहले ही इस विषय पर अपना फैसला दे दिया है।

शर्मा ने भी कहा कि यदि आवश्यक हो तब राज्य सरकार कल इस पर एक बयान जारी कर सकती है। लेकिन सदन में हंगामा जारी रहा और हंगामे के बीच ही सभापति ने सदन की कार्यवाही दोपहर बाद तीन बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तब विपक्ष के सदस्यों ने फिर से नारेबाजी शुरू कर दी। सदस्यों ने इस विषय पर चर्चा कराने की मांग की। वहीं सदन की कार्यवाही जारी रही।

इस बीच सदस्य नारेबाजी करते हुए गर्भगृह में प्रवेश कर गए तब सभापति शर्मा ने भाजपा और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ :जे: के 15 विधायकों के निलंबित होने की सूचना दी।

लेकिन जब विपक्ष के सदस्य सदन से बाहर नहीं गए तब शर्मा ने उन्हें वहां से निकलने के लिए कहा। लेकिन सदस्य नारेबाजी करते रहे। कुछ देर बाद विपक्ष के सदस्य सदन से बाहर निकल गए।

बाद में सभापति ने भाजपा सदस्यों के निलंबन समाप्ति की घोषणा की तथा सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।