23 May 2019, 14:23 HRS IST
  • ईवीएम और वीवीपैट के आंकड़ों का 100 फीसदी मिलान करने की मांग वाली याचिका खारिज
    ईवीएम और वीवीपैट के आंकड़ों का 100 फीसदी मिलान करने की मांग वाली याचिका खारिज
    प्रज्ञा ने माफी मांग ली है, लेकिन मैं अपने मन से उन्हें माफ नहीं कर पाऊंगा- मोदी
    प्रज्ञा ने माफी मांग ली है, लेकिन मैं अपने मन से उन्हें माफ नहीं कर पाऊंगा- मोदी
    न्यायालय ने राहुल गांधी के लोकसभा चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध की मांग वाली याचिका खारिज की
    न्यायालय ने राहुल गांधी के लोकसभा चुनाव लड़ने पर प्रतिबंध की मांग वाली याचिका खारिज की
    पांचवें चरण में 51 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी
    पांचवें चरण में 51 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • प्रकृति की नकल कर रोबोट बसा सकते हैं भविष्य के शहर : अध्ययन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:38 HRS IST

लंदन, 15 मार्च (भाषा) रोबोट एवं ड्रोन प्रकृति की युक्तियों की नकल उतार भविष्य के शहरों को बसाने में मददगार साबित हो सकते हैं। एक नये अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है।

रोबोट के इस्तेमाल से काम जल्दी पूरा होगा और निर्माण के साथ-साथ इन कार्यों की निगरानी भी की जा सकेगी। साथ ही यह मानवीय जोखिम को भी कम करेगा।

अध्ययन के मुताबिक रोबोट जो कुछ वे करते हैं उन सबका डेटा इकठ्ठा कर सकते हैं और इसके जरिए वे अपने काम में सुधार कर सकते हैं।

ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन के मिर्को कोवाक ने कहा, “भविष्य के शहरों का निर्माण एवं रख-रखाव जमीन पर काम करने वाले एवं हवा में उड़ सकने वाले रोबोटों के जरिए संभव होगा जो इमारतों के शहरी पारिस्थितिक तंत्र एवं अवसंरचना के निर्माण, आकलन एवं मरम्मत के लिए साथ काम करेंगे।”

कोवाक ने एक बयान में कहा, “प्रकृति से ऐसे कई उदाहरण मिलते हैं कि इस तरह का सामूहिक निर्माण संभव है और इनमें से कुछ विचारों को सहयोग करने वाले ड्रोन बनाने और उनको संचालित करने के लिए लागू कर हम इस सपने को हकीकत में बदल सकते हैं।”

टीम ने प्रकृति से ऐसे उदाहरण लिए जहां जीवों के समूह अपने घरौंदे बनाने में साथ काम करने के लिए विभिन्न युक्तियों का इस्तेमाल करते हैं।

अनुसंधानकर्ता इस तालमेल के तरीकों का विश्लेषण कर अल्गोरिद्म तैयार कर सकते हैं जिससे रोबोट एवं ड्रोन के समूह, निर्माण कार्य के दौरान स्वत: ही एक साथ काम करें।

यह अध्ययन ‘साइंस रोबोटिक्स’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में