26 Jun 2019, 15:24 HRS IST
  • न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    न्यायालय का गुजरात में रास की दो सीटों पर अलग-अलग उपचुनाव के खिलाफ याचिका पर सुनवाई से इंकार
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मुठभेड़, चार आतंकवादी ढेर
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    सिरिसेना से मिले प्रधानमंत्री मोदी, पारस्परिक हित के द्विपक्षीय मुद्दों पर की चर्चा
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
    मोदी ने गुरुवायुर में कहा, वाराणसी जितना ही मुझे प्रिय है केरल
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • आईसीआरसी ने 2013 में अगवा नर्स तथा अन्य के संबंध में सुराग देने की अपील की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:43 HRS IST

जिनेवा, 15 अप्रैल (एएफपी) सीरिया से 2013 में दो चालकों के साथ अपह्त की गई न्यूजीलैंड की एक नर्स के जिंदा होने की संभावना पैदा होने के बाद आईसीआरसी ने लोगों से नर्स व अन्य दोनों के संबंध में किसी भी तरह की जानकारी मुहैया कराने की गुहार लगाई है।

‘अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस समिति’ (आईसीआरसी) ने इतने वर्षों में पहली बार उसके संबंध में यह जानकारी साझा की है।

नर्स लुइसा अकावी, सीरियाई चालकों अला रजाब और नबील बाकदुनूज को रेड क्रॉस के काफिले के साथ जाते समय देश के उत्तर-पश्चिम में इदलिब से अपह्त कर लिया गया था।

हथियार से लैस लोगों ने 13 अक्टूबर 2013 को काफिले को रोक सात लोगों का अपहरण कर लिया था, जिनमें से चार लोगों को अगले दिन ही छोड़ दिया गया था।

आईसीआरसी ने कहा था कि उनका मानना है कि इस्लामिक स्टेट समूह (आईएस) ने उनका अपहरण किया था।

जिनेवा से समूह ने एक बयान में कहा, ‘‘ हमारी नई विश्वसनीय जानकारी के अनुसार अकापी 2018 अंत तक जिंदा थी।’’

न्यूजीलैंड ने कहा, ‘‘ आईसीआरसी को अला और नबील के बार में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।’’

दूसरी ओर, आईसीआरसी अभियानों के निदेशक डॉमिनिक स्टिलहार्ट ने कहा कि हम सभी लोगों से उनके संबंध में किसी भी तरह की जानकारी मिलने पर उसे हमसे साझा करने की अपील करते हैं। अगर हमारे साथी अब भी कब्जे में हैं तो हम उनकी तत्काल एवं बिना किसी शर्त रिहाई की मांग करते हैं।







एएफपी





निहारिका शोभना शोभना 1504 1444 जिनेवा

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।