24 Aug 2019, 21:44 HRS IST
  • मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि भागवत भवन में उमड़े श्रद्धालु
    मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि भागवत भवन में उमड़े श्रद्धालु
    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेते
    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेते
    कृष्ण जम्माष्टमी के मौके पर दही हांडी का एक नजारा
    कृष्ण जम्माष्टमी के मौके पर दही हांडी का एक नजारा
    मुंबई में दही हांडी उत्सव में शिरकत करते श्रद्धालु
    मुंबई में दही हांडी उत्सव में शिरकत करते श्रद्धालु
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • मैंने डिविलियर्स से कहा था कि अगर हम जीते तो मैं तुम्हे झप्पी दूंगा : कोहली

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:24 HRS IST

कोलकाता, 20 अप्रैल (भाषा) विराट कोहली ने शुक्रवार को यहां कहा है कि एबी डिविलियर्स की गैरमौजूदगी में पूरी पारी के दौरान बल्लेबाजी करने की जिम्मेदारी उनकी थी जिस पर रायल चैलेंजर्स बेंगलोर टीम का यह कप्तान खरा भी उतरा।



कोहली ने शुक्रवार को इंडियन प्रीमियर लीग के मौजूदा सत्र में अपनी पहली शतकीय पारी से कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ टीम को 10 रन से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई। उन्होंने 58 गेंद की पारी में 100 रन बनाये जिससे बेंगलोर को नौ मैचों में दूसरी जीत नसीब हुई।



मैच से पहले बेंगलोर के स्टार खिलाड़ी डिविलियर्स पूरी तरह से फिट नहीं थे और कोहली ने उन्हें विश्राम देना सही समझा।



कोहली ने पुरस्कार वितरण समारोह के बाद कहा, ‘‘ डिविलियर्स की गैर मौजूदगी में टीम के वरिष्ठ खिलाड़ी के तौर पर पूरी पारी के दौरान मेरा क्रीज पर बने रहना जरूरी था। मैच में नहीं खेलने को लेकर डिविलियर्स निराश थे और मैंने उन्हें कहा था कि अगर हम जीते तो मैं तुम्हे झप्पी दूंगा।’’



जीत के लिए 214 रन के बड़े लक्ष्य के सामने केकेआर ने धीमी शुरुआत की जो आखिर में उसे महंगी पड़ी। नितीश राणा (46 गेंदों पर नाबाद 85 रन) और आंद्रे रसेल (25 गेंदों पर 65 रन) ने अंतिम छह ओवरों में 102 रन जोड़े लेकिन तब भी टीम पांच विकेट पर 203 रन तक ही पहुंच पायी। कोलकाता को अंतिम ओवर में जीत के लिए 24 रन चाहिए थे जिसका मोईन अली ने सफलता पूर्वक बचाव किया।

कोहली ने 19वें ओवर में मार्कस स्टोइनिस की गेंदबाजी की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘ऐसी परिस्थितियों में घबराने की कोई जरूरत नहीं थी, आपको गेंदबाजों को छूट देनी होगी कि वे क्या करना चाहते है। स्टोइनिस और फिर अंत में मोईन ने अच्छी गेंदबाजी की। मुझे लगता है कि स्टोइनिस ने जिस तरह से दो-तीन डॉट गेंदें फेंकी, वह बहुत महत्वपूर्ण था।’’



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।