19 Jan 2020, 16:9 HRS IST
  • एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add

देखते हैं, ‘दीदी’ होने देती हैं या नहीं
  • Photograph Photograph  (1)
  • मोदी ने सिख विरोधी दंगों पर पित्रोदा की टिप्पणी को लेकर कांग्रेस की आलोचना की

  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:37 HRS IST

रोहतक,10 मई(भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को तकनीकी विशेषज्ञ से राजनीतिज्ञ बने सैम पित्रोदा की सिख विरोधी दंगों के संबंध में की गई कथित टिप्पणी को लेकर कांग्रेस पर हमला बोलते हुये कहा कि यह इस पार्टी के ‘‘चरित्र और मानसिकता’’ को दिखाता है।

लोकसभा चुनाव के छठे चरण के प्रचार के अंतिम दिन एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुये उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस की ‘‘आक्रामकता’’ को दिखाता है।

मोदी ने कहा, ‘‘कांग्रेस, जिसने अधिकतम समय तक शासन किया वह असंवेदनशील है और यह कल बोले गए तीन शब्दों से प्रकट होता है। ये शब्द यूं ही नहीं कहे गए हैं, ये शब्द कांग्रेस की मानसिकता और मंशा हैं।’’

उन्होंने 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर गुरूवार को पित्रोदा की टिप्पणी का उल्लेख करते हुये कहा, ‘‘और ये शब्द कौन से हैं .. ये हैं..हुआ तो हुआ।’’ मोदी ने दोहराते हुये कहा, ‘‘हुआ तो हुआ’’

उन्होंने मौजूद जनसमूह से कहा कि उन्हें अचरज हो रहा होगा कि प्रधानमंत्री क्या कह रहे हैं।

मोदी ने कहा, ‘‘हम तीन शब्दों से उन लोगों की आक्रामकता को बहुत आसानी से समझ सकते हैं जो कांग्रेस चला रहे हैं- हुआ तो हुआ।’’

मोदी ने कहा, ‘‘कल कांग्रेस के एक बड़े नेता ने ऊंची आवाज में 1984 को लेकर कहा कि ‘84 का दंगा हुआ तो हुआ’। क्या आप जानते हैं वो कौन है, वह गांधी परिवार के बहुत निकट है। यह नेता राजीव गांधी का निकट मित्र था और कांग्रेस ‘नामदार’ अध्यक्ष का गुरू है।’’

गौरतलब है कि जब पित्रोदा से 1984 के दंगों को लेकर प्रश्न पूछा गया था तो उन्होंने कहा था, ‘‘84 में हुआ तो हुआ’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।