22 Jul 2019, 20:24 HRS IST
  • बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    बाबरी मस्जिद प्रकरण: सुनवाई पूरी करने के लिये विशेष जज न्यायालय से छह माह का और वक्त चाहते हैं
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कर्नाटक संकट- न्यायालय ने इस्तीफों और अयोग्यता मुद्दे पर स्पीकर को 16 जुलाई तक निर्णय से रोका
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    कांग्रेस में इस्तीफे का सिलसिला जारी, सिंधिया और देवड़ा ने भी अपना-अपना पद छोड़ा
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
    मोदी ने आबे के साथ भगोड़े आर्थिक अपराधियों और आपदा प्रबंधन के मुद्दे पर चर्चा की
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • आस्ट्रेलिया ने भारत के साथ चीनी पर ‘लड़ाई’ तेज की, डब्ल्यूटीओ से जांच का आग्रह किया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:25 HRS IST

मेलबर्न, 12 जुलाई (भाषा) आस्ट्रेलिया ने भारत के साथ चीनी के व्यापार को लेकर अपनी लड़ाई तेज कर दी है और उसने औपचारिक रूप से विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) से एक समिति का गठन करने का आग्रह किया है।

मीडिया की एक रपट में शुक्रवार को कहा गया है कि आस्ट्रेलिया ने डब्ल्यूटीओ से यह जांच करने का अनुरोध किया है कि दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी उत्पादक देश कहीं कृषि सब्सिडी संबंधी अपनी प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन तो नहीं कर रहा है।

मार्च में आस्ट्रेलिया इस मुद्दे पर ब्राजील के साथ आ गया था और उसने डब्ल्यूटीओ में भारत के खिलाफ औपचारिक शिकायत दर्ज की थी। आस्ट्रेलिया का आरोप है कि भारत द्वारा चीनी किसानों को लगातार सब्सिडी दी जा रही है जिससे वैश्विक स्तर पर चीनी की भरमार हो गई है जिससे बाजार में इसकी कीमतें नीचे आई हैं।

आस्ट्रेलिया ने ब्राजील और ग्वाटेमाला के साथ मिलकर डब्ल्यूटीओ से विवाद निपटान के लिए समिति बनाने को कहा है कि जो इस बात की जांच करे कि भारत द्वारा इस मुद्दे पर प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन तो नहीं किया जा रहा है।

आस्ट्रेलिया की वित्तीय समीक्षा रिपोर्ट में व्यापार मंत्री साइमन बर्मिंघम के हवाले से कहा गया है कि भारत से उसकी चिंताओं को लेकर ठोस कदम नहीं उठाए हैं और वह अपनी डब्ल्यूटीओ प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन करते हुए लगातार सब्सिडी दे रहा है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में