24 Aug 2019, 22:32 HRS IST
  • मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि भागवत भवन में उमड़े श्रद्धालु
    मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि भागवत भवन में उमड़े श्रद्धालु
    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेते
    पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेते
    कृष्ण जम्माष्टमी के मौके पर दही हांडी का एक नजारा
    कृष्ण जम्माष्टमी के मौके पर दही हांडी का एक नजारा
    मुंबई में दही हांडी उत्सव में शिरकत करते श्रद्धालु
    मुंबई में दही हांडी उत्सव में शिरकत करते श्रद्धालु
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कप्तान और कोच के लौटने के बाद भारत के विश्व कप प्रदर्शन की समीक्षा करेगा सीओए

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:9 HRS IST

लंदन, 12 जुलाई (भाषा) उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली के लौटने के बाद विश्व कप में भारत के प्रदर्शन की समीक्षा करेगी और फोकस बड़े टूर्नामेंटों में टीम चयन पर रहेगा ।

विनोद राय की अध्यक्षता वाली समिति प्रमुख चयनकर्ता एमएसके प्रसाद से भी बात करेगी । समिति में डायना एडुल्जी और लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) रिव थोडगे भी हैं ।

राय ने सिंगापुर से प्रेस ट्रस्ट से कहा ,‘‘ कप्तान और कोच के ब्रेक से लौटने के बाद बैठक जरूर होगी । मैं तारीख और समय नहीं बता सकता लेकिन हम उनसे बात करेंगे । हम चयन समिति से भी बात करेंगे ।’’

उन्होंने आगे ब्यौरा देने से इनकार कर दिया ।

विराट कोहली और टीम रविवार को मुंबई के लिये रवाना होंगे । भारत को सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड ने 18 रन से हराया जबकि ग्रुप चरण में भारतीय टीम शीर्ष पर रही थी ।

राय ने कहा ,‘‘ भारत का अभियान अभी खत्म हुआ है । कहां, कब और कैसे जैसे सवालों का मैं आपको कोई जवाब नहीं दे सकूंगा ।’’

शास्त्री, कोहली और प्रसाद को कुछ सवालों का जवाब देना पड़ सकता है । मसलन आखिरी श्रृंखला तक अंबाती रायुडू का चयन तय था लेकिन अचानक वह चौथे नंबर की दौड़ से बाहर कैसे हो गए ।

रायुडू का नाम रिजर्व में थी था लेकिन दो खिलाड़ियों के चोटिल होने पर भी उन्हें नहीं बुलाया गया जिसके बाद उन्होंने क्रिकेट के सभी प्रारूपों को अलविदा कह दिया ।

दूसरा, टीम में तीन विकेटकीपर क्यो थे खासकर दिनेश कार्तिक की क्या जरूरत थी जो लंबे समय से फार्म में नहीं थे । कार्तिक के अलावा महेंद्र सिंह धोनी और ऋषभ पंत भी टीम में थे ।

तीसरा, सेमीफाइनल में महेंद्र सिंह धोनी को सातवें नंबर पर क्यो उतारा गया । समझा जाता है कि धोनी को नीचे भेजने का फैसला बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ का था । यह भी पूछा जायेगा कि सहायक कोच के इस फैसले का मुख्य कोच ने विरोध क्यो नहीं किया ।

मौजूदा चयन समिति बीसीसीआई की आमसभा की बैठक तक बनी रहेगी । ऐसे में प्रसाद को चयन बैठकों में अधिक सक्रिय रहने की सलाह दी जा सकती है । असल में समस्या प्रसाद से नहीं बल्कि शरणदीप सिंह और देवांग गांधी से है क्योंकि कइयों का मानना है कि उनका कुछ योगदान नहीं रहता ।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।