19 Jan 2020, 16:23 HRS IST
  • एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • इमरान खान के संबोधन के दौरान स्वतंत्र बलोचिस्तान के पक्ष में नारेबाजी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:46 HRS IST

वॉशिंगटन, 22 जुलाई (भाषा) अमेरिका के तीन दिवसीय दौरे पर पहुंचे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के यहां एक सभागार में भाषण के दौरान युवा बलूचों के एक समूह ने पाकिस्तान के खिलाफ और आजाद बलोचिस्तान के पक्ष में नारेबाजी की।

खान, पाकिस्तानी मूल के अमेरिकियों की विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे जब बलोच युवा अचानक अपने स्थानों पर खड़े हो गए और नारेबाजी करने लगे।

पाकिस्तानी सुरक्षा बलों द्वारा बलोचों पर किए जा रहे कथित अत्याचार, उनकी अकारण गुमशुदगी और मानवाधिकार उल्लंघनों के खिलाफ अमेरिका में रह रहे बलोच लगातार आवाज उठाते रहे हैं।

पिछले दो दिनों से वे मोबाइल बिलबोर्ड अभियान चला कर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से पाकिस्तान में बलोचों को गुप्त तरीके से अगवा किए जाने की घटनाओं पर लगाम लगाने में मदद करने की अपील कर रहे हैं।

खान के मंच से काफी दूर खड़े होकर तीन बलूच युवा नारे लगा रहे थे। हालांकि खान ने बिना रूके अपना भाषण जारी रखा। करीब ढाई मिनट के बाद स्थानीय सुरक्षा कर्मियों ने तीनों को सभागार से जाने को कहा। इमरान खान के कुछ समर्थकों को उन्हें पीछे धकेलते हुए और स्टेडियम से बाहर जाने के लिए कहते हुए देखा गया।

इस बीच मुताहिदा कौमी आंदोलन (एमक्यूएम) के सदस्यों एवं समर्थकों ने यूएस कैपिटल के सामने खान के खिलाफ रविवार को शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया।

एमक्यूएम समर्थकों के समूह ने इमरान और पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए और आरोप लगाया कि कराची एवं देश के अन्य हिस्सों में मोहाजिरों के मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन किया जाता है।

उन्होंने आरोप लगाया कि पाकिस्तानी सेना और आईएसआई पाकिस्तान में मोहाजिरों के खिलाफ अत्याचार करने में शामिल है। एमक्यूएम के संस्थापक नेता अल्ताफ हुसैन आत्म-निर्णय का अधिकार मांग रहे हैं।

मोहाजिर (एमक्यूएम), बलोच, पश्तून, सिंधी, गिलगिट, बाल्टिस्तान और सराइकी समुदायों सोमवार को फिर से व्हाइट हाउस के सामने प्रदर्शन करने वाले हैं।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में