19 Jan 2020, 15:38 HRS IST
  • एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • जेट एयरवेज मामला: आयरिश कंपनी ने बोइंग 777 विमान वापस लेने को एनसीएलटी का दरवाजा खटखटाया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 21:45 HRS IST

मुंबई , 23 अगस्त (भाषा) विमान किराये पर देने वाली आयरलैंड की कंपनी फ्लीट आयरलैंड ने शुक्रवार को राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण का दरवाजा खटखटाते हुए न्यायाधिकरण से जेट एयरवेज मामले में विमानों का पंजीकरण रद्द नहीं करने संबंधी अपने पांच जुलाई के आदेश को वापस लेने की गुहार लगाई है।

एनसीएलटी ने डीजीसीए को निर्देश दिया था कि इस आधार पर विमान का पंजीकरण रद्द नहीं किया जा सकता है कि आयरिश कंपनी प्रभावित पक्ष है और इसलिए उसकी बात सुनने की जरूरत है।

आयरलैंड की कंपनी ने बंद पड़ी जेट एयरवेज को बोइंग बी 777 विमान पट्टे पर दिया था। बकाये का भुगतान न करने पर एक यूरोपीय मालवाहक परिचालक ने मार्च के अंत में एम्स्टर्डम हवाई अड्डे पर विमान को जब्त कर लिया था।

इसके बाद , नीदरलैंड (डच) की एक अदालत ने मई में एयरलाइन के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया था।

एनसीएलटी ने पांच जुलाई को नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) को जेट एयरवेज के बोइंग -777 विमान का पंजीकरण रद्द करने से रोक दिया था। इस विमान को कार्गो कंपनी ने अप्रैल में जब्त कर लिया था।

जेट एयरवेज को 17 जून को एनसीएलटी में ले जाने के बाद कंपनी ने डीजीसीए को इस विमान का पंजीकरण रद्द करने के लिए आवेदन किया था।

एनसीएलटी ने पांच जुलाई को इस मामले की फिर सुनवाई शुरू की। सुनवाई के दौरान कंपनी के समाधान पेशेवर ने विमान का पंजीकरण रद्द करने के मुद्दे पर एनसीएलटी से निर्देश देने के लिए कहा क्योंकि कंपनी दिवाला प्रक्रिया के तहत अधिस्थगन अवधि में है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में