04 Jun 2020, 23:49 HRS IST
  • लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अर्थव्यवस्था में छत्तीसगढ़ के मॉडल को पूरे देश में लागू करे केंद्र : बघेल

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:48 HRS IST

रायपुर, 10 अक्टूबर (भाषा) छत्तीसगढ़ के ऑटो एवं दूसरे क्षेत्रों में आए उछाल का उल्लेख करते हुए राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि देश में सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए केंद्र को किसानों एवं आम लोगों को आर्थिक रूप से मजबूत करने के उनकी सरकार के मॉडल को राष्ट्रीय स्तर पर लागू करना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि देश भर में मंदी होने के बावजूद छत्तीसगढ़ में मंदी का कोई असर नहीं है, बल्कि तेजी से आर्थिक विकास हो रहा है।

बघेल ने कुछ स्वतंत्र एजेंसियों की ओर से किए गए अध्ययनों का हवाला देते हुए संवाददाताओं से कहा, ' देश में मंदी का असर है लेकिन हमारे यहां नहीं है। इसकी वजह है कि हमने गरीबों और किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत किया है। पिछले कुछ महीनों में वाहनों की बिक्री 13 फीसदी बढ़ी है। गत दिसंबर से सर्राफा की बिक्री में 84 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।'

एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा, 'मेरा यह कहना है कि जिस तरह से हमने किसानों और गरीबों को आर्थिक रूप से मजबूत किया, केंद्र को भी यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहिए। किसानों को मजबूत बनाने के लिए केंद्र को कदम उठाना चाहिए।'

अपनी एक हफ्ते तक चली 'गांधी विचार यात्रा' के समापन से पहले बघेल ने कहा कि वह राज्य की कृषि आधारित अर्थव्यवस्था को सबल बनाने की कोशिश कर रहे हैं और किसानों की उपज की राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बिक्री बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है।

झीरमघाटी नक्सल हमले से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा, 'पहली ऐसी घटना थी जिसमें नेताओं का नरसंहार हुआ। एनआईए अपनी अंतिम रिपोर्ट दे चुकी है। कुछ बड़े सवाल हैं। उसकी साजिश की जांच क्यों नहीं हुई? गवाहों के बयान क्यों नहीं लिये गये ? '

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार इस मामले को एनआईए से अपने हाथ में लेने की कोशिश कर रही है ताकि नए सिरे से जांच हो सके।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।