22 Feb 2020, 03:42 HRS IST
  • एजीआर बकाया भुगतान संबंधी आदेश का अनुपालन नहीं होने पर न्यायालय ने अपनाया कड़ा रुख
    एजीआर बकाया भुगतान संबंधी आदेश का अनुपालन नहीं होने पर न्यायालय ने अपनाया कड़ा रुख
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारतीय परिवार को इजराइल से वापस भारत भेजा जाएगा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:51 HRS IST

(हरेंद्र मिश्रा)

यरुशलम, आठ नवम्बर (भाषा) इजराइल में हिरासत में लिये गए एक भारतीय परिवार के चार सदस्यों को औपचारिकताएं पूरी होने के बाद जल्द ही वापस उनके देश भेजे जाने की उम्मीद है। इन सदस्यों में दो बच्चे भी शामिल हैं। इन लोगों को इजराइल में अवैध प्रवासी श्रमिकों के खिलाफ चल रही कार्रवाई के दौरान हिरासत में लिया गया है। यह जानकारी अधिकारियों ने यहां दी।

मीडिया में आयी एक खबर के अनुसार इजराइल के आव्रजन प्राधिकारियों ने बृहस्पतिवार को एक भारतीय दम्पति को दो बच्चों के साथ पकड़ा था।

‘हारेत्ज’ आनलाइन की खबर के अनुसार इजराइल के ‘पापुलेशन एंड इमीग्रेशन अथॉरिटी’ के निरीक्षक टीना और मिनिन लोपेज के घर में घुसे और उन्हें उनके दो बच्चों के साथ गिरफ्तार कर लिया। इनके बच्चों में सात वर्षीय पुत्री इलियाना और एक वर्ष का बच्चा शामिल है।

यह परिवार कर्नाटक से है और इन लोगों को मध्य इजराइल स्थित बैत दागन हिरासत केंद्र ले जाया गया।

प्राधिकारियों ने बताया कि कल रात उन्हें रिहा कर दिया गया और उम्मीद है कि संबंधित औपचारिकताएं पूरी होने के बाद उन्हें जल्द ही वापस उनके देश भेज दिया जाएगा।

दम्पति 12 वर्ष पहले कथित तौर पर भारत से नर्स के तौर पर काम करने के लिए इजराइल आये थे। इनके दोनों बच्चों का जन्म इजराइल में हुआ।

परिवार का प्रतिनिधित्व करने वाले अटॉर्नी डेविड टैडमोर ने कहा, ‘‘आव्रजन प्राधिकारी अदालत की निर्देशों का पालन करने की बजाय धमकाने वाली कार्रवाई में लिप्त हैं।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में