10 Dec 2019, 11:44 HRS IST
  • असामान्य रूप से मौन हैं प्रधानमंत्री, सरकार को अर्थव्यवस्था की कोई खबर नहीं: चिदंबरम
    असामान्य रूप से मौन हैं प्रधानमंत्री, सरकार को अर्थव्यवस्था की कोई खबर नहीं: चिदंबरम
    तमिलनाडु में भारी बारिश से दीवार गिरने से 15 लोगों की मौत
    तमिलनाडु में भारी बारिश से दीवार गिरने से 15 लोगों की मौत
    झारखंड विस चुनाव: प्रथम चरण में सुबह 11 बजे तक 27.41 प्रतिशत मतदान
    झारखंड विस चुनाव: प्रथम चरण में सुबह 11 बजे तक 27.41 प्रतिशत मतदान
    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद का शपथ लेते हुये भाजपा नेता देवेंद्र फड़णवीस
    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद का शपथ लेते हुये भाजपा नेता देवेंद्र फड़णवीस
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • एमटीएनएल के 13,500 कर्मचारियों ने वीआरएस के लिए आवेदन किया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:16 HRS IST

नयी दिल्ली, 20 नवंबर (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी महानगर टेलीफोन निगम लि. (एमटीएनएल) की स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) के लिए 13,500 कर्मचारियों ने आवेदन किया है। कंपनी ने वीआरएस योजना की घोषणा हाल में की थी। इससे पहले एक अन्य सरकारी दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) की वीआरएस योजना को भी कर्मचारियों की अच्छी प्रतिक्रिया मिली थी।

शुरुआत में एमटीएनएल का अनुमान था कि उसके 13,500 कर्मचारी इस योजना का विकल्प चुनेंगे। लेकिन अब तक 13,532 कर्मचारी वीआरएस के लिए आवेदन कर चुके हैं। अभी इस योजना को बंद होने में करीब दो सप्ताह का समय बचा है।

एमटीएनएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक सुनील कुमार ने पीटीआई भाषा से बुधवार को कहा, ‘‘वीआरएस के लिए काफी अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। अब तक 13,532 कर्मचारी इसके लिए आवेदन कर चुके हैं। हमारा आंतरिक लक्ष्य 13,500 का था।’’

कुमार ने भरोसा दिलाया कि इस योजना में जितना संभव होगा उतने कर्मचारियों को शामिल करने का प्रयास किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘‘वीआरएस के लिए आवेदन की तारीख समाप्त होने से पहले 14,500 से 15,000 कर्मचारी इसके लिए आवेदन करेंगे।’’ उन्होंने बताया कि कुल मिलाकर कंपनी के 16,300 कर्मचारी इसके पात्र हैं।

वहीं बीएसएनएल के मामले में अभी तक 77,000 कर्मचारी वीआरएस के लिए आवेदन कर चुके हैं।

एमटीएनएल को पिछले दस में से नौ साल घाटा हुआ है। बीएसएनएल भी 2010 से घाटे में है। दोनों कंपनियों 40,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। इसमें से आधा अकेले एमटीएनएल पर है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में