14 Jul 2020, 16:21 HRS IST
  • अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ से हटने की आधिकारिक जानकारी दी
    अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ से हटने की आधिकारिक जानकारी दी
    प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कांग्रेस के 11 नेताओं को नोटिस

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 20:32 HRS IST

लखनऊ, 21 नवंबर (भाषा) उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने गुरुवार को पार्टी के 11 वरिष्ठ नेताओं को अनुशासनहीनता के मामले में नोटिस जारी कर 24 घंटे में स्पष्टीकरण मांगा।

पार्टी की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया, "अनुशासन समिति के सदस्य अजय राय (पूर्व विधायक) द्वारा उत्तर प्रदेश की प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी व प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर विगत दिनों में अनुशासनहीनता करने पर नोटिस जारी कर चौबीस घण्टे में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने हेतु जवाब मांगा गया है।"

विज्ञप्ति में कहा गया कि संतोष सिंह (पूर्व सांसद), सिराज मेंहदी (पूर्व एमएलसी), रामकृष्ण द्विवेदी (पूर्व गृहमंत्री), सत्य देव त्रिपाठी (पूर्व मंत्री), राजेन्द्र सिंह सोलंकी (सदस्य एआईसीसी), भूधर नारायण मिश्र (पूर्व विधायक), हाफिज मोहम्मद उमर (पूर्व विधायक), विनोद चौधरी (पूर्व विधायक), नेक चन्द्र पाण्डेय (पूर्व विधायक), स्वयं प्रकाश गोस्वामी (पूर्व अध्यक्ष युवा कांग्रेस), संजीव सिंह (पूर्व जिलाध्यक्ष गोरखपुर) को नोटिस जारी किया गया है।

नेताओं को भेजे नोटिस में कहा गया है कि अनुशासन समिति के संज्ञान में अखबारों के जरिए आया है कि आप अनावश्यक रूप से लगातार यूपीसीसी से जुड़े अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के फैसलों का सार्वजनिक बैठक कर विरोध करते आए हैं।

इसमें कहा गया है कि इन बैठकों और मीडिया बयानों से कांग्रेस की छवि धूमिल हुई है। आप जैसे वरिष्ठ नेताओं से यह उम्मीद नहीं थी। आपका बर्ताव पार्टी की नीतियों और विचारों के खिलाफ है।

नोटिस में कहा गया कि ये बर्ताव अनुशासनहीनता के दायरे में आता है। आप 24 घंटे में स्पष्ट करें कि आपके खिलाफ क्यों न अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।