14 Jul 2020, 15:43 HRS IST
  • अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ से हटने की आधिकारिक जानकारी दी
    अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ से हटने की आधिकारिक जानकारी दी
    प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिका ने पाक से सीपीईसी पर चीन से सख्ती से सवाल करने को कहा

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 14:54 HRS IST

वाशिंगटन, 22 नवंबर (भाषा) डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान से कहा है कि वह चीन से चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे पर सख्ती से सवाल पूछे।

एक शीर्ष अमेरिकी राजनयिक ने इस अरबों डॉलर की परियोजना पर कड़ा हमला बोलते हुए दावा किया कि इससे पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचेगा।

चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) सड़क, रेलवे और ऊर्जा परियोजनाओं का एक योजनागत तरीके से तैयार नेटवर्क होगा। यह चीन के संसाधन संपन्न शिंजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र को अरब सागर पर पाकिस्तान के रणनीतिक ग्वादर बंदरगाह से जोड़ेगा।

सीपीईसी की शुरुआत 2015 में शी चिनफिंग की पाकिस्तान यात्रा के दौरान हुई थी। अब चीन इसके तहत पाकिस्तान में विभिन्न विकास परियोजनाओं में 50 अरब डॉलर से अधिक का निवेश कर रहा है।

अमेरिका के दक्षिण और मध्य एशिया मामलों के उप विदेश मंत्री एलिस वेल्स ने बृहस्पतिवार को कहा, ‘‘हमें उम्मीद है कि पाकिस्तान ऋण, जवाबदेही, निष्पक्षता और पारदर्शिता को लेकर चीन से सख्ती से सवाल करेगा।’’ उन्होंने पाकिस्तान से कहा कि वह चीन से सवाल करे कि वह पाकिस्तान में विकास मॉडल को क्यों आगे बढ़ा रहा है। यह चीन की खुद की आर्थिक प्रगति के लिए अपनाए गए रुख का उलट है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की जनता को यह क्यों नहीं पता है कि सीपीईसी सबसे महंगी परियोजना है। कैसे इसके लिए कर्ज तय किया गया है।

वेल्स ने कहा कि पाकिस्तान को सवाल करना चाहिए कि चीन के वित्तपोषण से दीर्घावधि में उसपर क्या प्रभाव पड़ेगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में