22 Jan 2020, 14:13 HRS IST
  • एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    एनआरसी व एनपीआर- कांग्रेस व भाजपा ने एक दूसरे पर साधा निशाना
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    'आरएसएस के प्रधानमंत्री' भारत माता से झूठ बोलते हैं- राहुल फोटो पीटीआई
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    दिल्ली के किराड़ी में आग लगने से नौ लोगों की मौत
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
    बंगाल में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • राष्ट्रमंडल खेलों 2022 के दौरान निशानेबाजी चैम्पियनशिप करने की कोई योजना नहीं: सीजीएफ

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:22 HRS IST

नयी दिल्ली, नौ दिसंबर (भाषा) राष्ट्रमंडल खेल महासंघ (सीजीएफ) ने सोमवार को यहां कहा कि 2022 में बर्मिंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान भारत में राष्ट्रमंडल निशानेबाजी चैम्पियनशिप कराने की उसकी कोई योजना नहीं है।



इन खेलों में इस आयोजन से निशानेबाजी को बाहर कर दिया गया है।



सीजीएफ ने कहा कि शुक्रवार को उसकी प्रमुख लुई मार्टिन और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड ग्रेवम्बर्ग जब म्यूनिख में आईएसएसएफ के शीर्ष अधिकारियों से मिले तो इससे जुड़ा कोई औपचारिक प्रस्ताव नहीं पेश किया गया।



मीडिया में ऐसी खबरें थी कि बर्मिंघम में होने वाले खेलों के दौरान भारत में निशानेबाजी चैम्पियनशिप का आयोजन किया जा सकता है और इसमें आने वाले पदकों को राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेने वाले देशों के पदक में जोड़ा जाएगा।



ग्रेवम्बर्ग ने कहा, ‘‘ राष्ट्रमंडल निशानेबाजी चैम्पियनशिप उन योजनाओं में शामिल थी जिस पर आईएसएसएफ से चर्चा हुई लेकिन इससे जुड़ा कोई औपचारिक प्रस्ताव पेश नहीं किया गया। इस मुद्दे पहले हमारे साझेदारों को एकमत होने दीजिए।’’



उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे में पदकों को लेकर मीडिया में लगाये जा रहे कयास पर कुछ कहना काफी जल्दबाजी होगी। ’’



भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) ने निशानेबाजी को राष्ट्रमंडल खेलों से हटाए जाने के विरोध में इन खेलों से हटने की धमकी दी थी। उन्होंने प्रस्ताव दिया था कि निशानेबाजी चैम्पियनशिप का आयोजन करवाकर इसके पदकों को संबंधित देश के खाते में जोड़ा जाए।



आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने कहा था कि अगर पदकों को देश के खाते में नहीं जोड़ा जाएगा तो भारत राष्ट्रमंडल निशानेबाजी चैम्पियनशिप में भाग नहीं लेगा।





  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।