23 Jan 2021, 07:19 HRS IST
  • बाइडन ने 15 कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर किए
    बाइडन ने 15 कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर किए
    विजेता भारतीय टीम स्वदेश पहुंची, रहाणे का मुंबई में जोरदार स्वागत
    विजेता भारतीय टीम स्वदेश पहुंची, रहाणे का मुंबई में जोरदार स्वागत
    लाल किले में बर्ड फ्लू से कौओं की मौत,26 जनवरी तक दर्शकों के लिए बंद
    लाल किले में बर्ड फ्लू से कौओं की मौत,26 जनवरी तक दर्शकों के लिए बंद
    गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाएं टीका नहीं लगवाएं:भारत बायोटेक
    गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाएं टीका नहीं लगवाएं:भारत बायोटेक
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • मंत्रिमंडल ने राशन की दुकानों के जरिये दो किलो अतिरिक्त अनाज की आपूर्ति को मंजूरी दी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:51 HRS IST

नयी दिल्ली, 25 मार्च (भाषा) देश व्यवापी कोरोना पाबंदियों के बीच आम लागों तक राशन की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए, सरकार ने बुधवार को राशन की दुकानों के माध्यम से 80 करोड़ लाभार्थियों को दिये जाने वाले सब्सिडी-प्राप्त खाद्यान्नों का मासिक कोटा दो किलोग्राम बढ़ाकर सात किलोग्राम प्रति व्यक्ति करने का फैसला किया।

   इस संबंध में फैसला, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) द्वारा लिया गया।

सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बैठक के बाद मीडिया को बताया, ‘‘सरकार ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत 80 करोड़ लोगों को 7 किलोग्राम प्रति व्यक्ति खाद्यान्न उपलब्ध कराने का फैसला किया है।’’ उन्होंने कहा कि गेहूं की कीमत 27 रुपये किलो है, जो दो रुपये किलो की रियायती दर पर प्रदान की जायेगी, जबकि चावल की लागत लगभग 32 रुपये किलो है, लेकिन राशन की दुकानों के माध्यम से इसे तीन रुपये किलो की दर से आपूर्ति की जाएगी।

उन्होंने कहा कि सभी राज्यों को पीडीएस के माध्यम से वितरण के लिए केंद्र से खाद्यान्न लेने के लिए कहा गया है।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम कानून (एनएफएसए) के तहत, सरकार 80 करोड़ से अधिक लोगों को अत्यधिक रियायती मूल्य पर प्रति माह पांच किलोग्राम खाद्यान्न की आपूर्ति कर रही है।

पीडीएस के माध्यम से अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटित करने का निर्णय लिया गया है क्योंकि भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) गेहूं और चावल के अधिक स्टॉक होने की स्थिति से जूझ रहा है। कुछ खाद्यान्नों के स्टॉक खुली जगह में रखे गए हैं और एफसीआई मानसून से पहले इस स्टॉक को खत्म करने के दबाव में है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में