05 Jun 2020, 00:11 HRS IST
  • लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कोरोना वायरस: शी के रवैये पर सवाल उठाने वाले नेता के खिलाफ जांच शुरू

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:13 HRS IST

बीजिंग, आठ अप्रैल (एपी) कोरोना वायरस से निपटने के तरीकों को लेकर चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की आलोचना करने वाले कम्युनिस्ट पार्टी के नेता के खिलाफ ‘‘अनुशासन एवं कानून के गंभीर उल्लंघन’’ के मामले में जांच की जा रही है।

ज्वाइंट गवर्नमेंट पार्टी के निगरानी समूह ने यह जानकारी दी।

रेन झिकियांग सरकार संचालित रियल एस्टेट समूह हूआयून समूह के पूर्व प्रमुख और पार्टी के सदस्य हैं। प्रेस सेंसरशिप जैसे तमाम संवेदनशील मुद्दों पर वह अपने विचार खुलकर व्यक्त करने के लिए पहचाने जाते हैं।

चीन के वुहान से दिसम्बर में फैलना शुरू हुए कोरोना वायरस पर एक लेख मध्य मार्च में ऑनलाइन जारी करने के बाद वह नजरों में आ गए थे। इसमें महामारी से निपटने के नेतृत्व के रवैये की अलोचना की गई थी।

बीजिंग के पश्चिमी जिले में ज्वाइंट गवर्नमेंट निगरानी समूह ने एक पंक्ति के नोटिस में कहा कि रेन के खिलाफ जांच की जा रही है लेकिन इस संबंध में कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी और ना ही रेन के लेख या पूर्व बयानों का जिक्र किया।

चीन ने सेंसर की नीति के तहत उस लेख को पहले ही हटा दिया था।

रेन (69) पहले सेना से जुड़े थे और उनके माता-पिता भी दोनों कम्युनिस्ट पार्टी में उच्च पदों पर रहे हैं।

शी 2012 में सत्ता में आने के बाद से अपने असहिष्णु रवैये के लिए पहचाने जाते रहे हैं। मीडिया और नगर निकाय समूहों की स्वतंत्रता छीनने के लिए भी उनकी काफी आलोचना हुई। वहीं उन्होंने सैकड़ों पत्रकारों, वकीलों और गैर सरकारी कार्यकर्ताओं को कई मुद्दों पर जेल भी भेजा है।

एपी निहारिका नरेश नरेश 0804 1112 बीजिंग

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।