05 Jun 2020, 00:21 HRS IST
  • लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    लॉकडाउन के बीच दिल्ली से अपने घर लौटते प्रवासी श्रमिक
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस के मद्देनजर 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडालन की घोषणा की
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    कोरोना वायरस के मद्देनजर नयी दिल्ली में लोग एहतियात बरतते हुये
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
    चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस की जांच करते चिकित्साकर्मी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • इटली में आईसीयू में मरीजों की संख्या कम हुई लेकिन अब भावनात्मक दबाव से गुजर रहे हैं स्वाथ्यकर्मी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 16:31 HRS IST

रोम, आठ अप्रैल (एपी) कोरोना वायरस महामारी से बुरी तरह प्रभावित इटली में गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में कार्यरत मदालेना ोरारी अपना मास्क उतारते हुए आंसू नहीं रोक सकीं। यह मास्क वह अपना कर्तव्य निभाने के दौरान खुद को संक्रमण से सुरक्षित रखने के साथ ही घर में अपने बुजुर्ग माता-पिता को बचाने के लिए पहनती हैं।

अपने शयनकक्ष में मास्क हटाने के बाद नर्सिंग समन्वयक इस दिन अस्पताल में जान गंवाने वाले मरीजों के लिए रोने लगीं।

फेरारी ने अपनी पारी खत्म करने के बाद कहा, ' हम एक पूरी पीढ़ी खो रहे हैं। उनके पास हमें सिखाने के लिए अब भी बहुत कुछ था।'

इटली में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या में कुछ कमी आने के बाद अस्पतालों के आईसीयू में दबाव कम हुआ है लेकिन इससे निपटने के लिए अग्रिम पंक्ति में काम कर रहे चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों को भावनात्मक और मानसिक आघात से दो-चार होना पड़ रहा है।

इटली में पहले ही दो नर्स आत्महत्या कर चुकी हैं। ऐसे में स्वास्थ्यकर्मियों के मानसिक तनाव को कम करने के मकसद से मनोवैज्ञानिक मुफ्त में ऑनलाइन परामर्श दे रहे हैं।

अलग-अलग अस्पताल छोटे समूह बनाकर कर्मियों के लिए थेरेपी सत्र आयोजित कर रहे हैं ताकि बड़ी संख्या में मरीजों को मरते देखने वाले कर्मचारियों को मानसिक आघात से उबारा जा सके।

शोधकर्ताओं का मानना है कि पिछले करीब सात सप्ताह से महामारी से बुरी तरह प्रभावित हो चुके इटली में स्वयं ही पृथक वास में रह रहे बहुत से चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मी तो अपने परिवार के सामान्य सहयोग से वंचित रहने के कारण भी भावनात्मक दौर से गुजर रहे हैं।

एक तरफ महामारी से निपटने के साथ दूसरी तरफ वायरस के खतरे और मरीजों की भारी संख्या के कारण काम के दबाव की वजह से स्वास्थ्यकर्मियों में बढ़ते तनाव के खतरे का भी सामना करना पड़ रहा है।

चिकित्सा कर्मियों पर पड़ने वाले मानसिक प्रभावों को लेकर अध्ययन कर रहे लॉम्बार्डी क्षेत्र की स्वास्थ्य देखभाल प्रशिक्षण अकादमी के निदेशक डॉ एलेसांद्रो कोलंबो ने अपने शुरुआती अनुसंधान में कहा, 'हम दूसरे महीने में प्रवेश कर रहे हैं, लोग शारीरिक और मानिसक रूप से थके हुए हैं।'

मरीजों के एकाकीपन का चिकित्सकों और नर्सों पर गहरा प्रभाव पड़ा है। मरीजों को बिना रिश्तेदारों और पादरी की मौजूदगी के ही मरने को कहा जा रहा है।

फरारी की एक अन्य सहयोगी मारिया बेरारदली ने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों को दो सप्ताह तक वेंटिलेटर पर रहे मरीज को मरते हुए देखने की आदत नहीं है और यह बेहद विनाशकारी मानसिक पीड़ा है।



एपी शफीक शाहिद शाहिद 0804 1628 रोम

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।