07 Jul 2020, 11:32 HRS IST
  • प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
    सेना प्रमुख ने लद्दाख का दौरा कर हालात का जायजा लिया
    सेना प्रमुख ने लद्दाख का दौरा कर हालात का जायजा लिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिका के डिजिटल कर जांच के फैसले को भारत के खिलाफ आक्रामकता नहीं माना जाना चाहिये: सूत्र

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:23 HRS IST

नयी दिल्ली, तीन जून (भाषा) भारतीय अधिकारियों की राय में डिजिटल सेवाओं पर करारोपण या इसका प्रस्ताव करने वाले भारत सहित कुछ देशों के खिलाफ जांच के अमेरिका के फैसले को आक्रामक नहीं माना जाना चाहिये। सरकारी सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी।

अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी ने घोषणा की है कि ट्रम्प सरकार ने डिजिटल सेवा कर के मामले में जांच शुरू करने का फैसला किया है। उसके मुताबिक भारत सहित कई देशों ने डिजिटल सेवा कर अपनाया है अथवा अपनाने पर विचार कर रहे हैं।

अमेरिका को लगता है कि इस तरह के कर का मकसद मकसद गूगल जैसी अमेरिका की प्रौद्योगिकी कंपनियों पर अनुचित तरीके से निशाना बनाना है।

अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि (यूएसटीआर) राबर्ट लाइटहाइजर ने मंगलवार को कहा, ‘‘(अमेरिका के) राष्ट्रपति (डोनाल्ड) ट्रंप इस बात को लेकर चिंतित है कि हमारे कई व्यापार भागीदार ऐसी कर योजना अपना रहे हैं जिसका मकसद हमारी कंपनियों पर अनुचित तरीके से निशाना साधना है।’’

सूत्रों का कहना है कि यूएसटीआर की धारा 301 के तहत भारत के समानीकरण शुल्क की जांच की घोषणा मात्र एक कदम की शुरुआत है और यह किसी भी तरह से भारत सरकार के खिलाफ पक्की कार्रवाई नहीं है।

सूत्रों ने कहा है, ‘‘इसके अलावा इसमें भारत पर किसी तरह का शुल्क अथवा अन्य दंडात्मक उपाय नहीं है। यह गौर करने वाली बात है कि यूएसटीआर का यह कदम भारत के खिलाफ नहीं है बल्कि यह डिजिटल कर की नीति के खिलाफ है जो कि कई देशों में उभर कर सामने आई है। इनमं आस्ट्रिया, ब्राजील, चेक गणराज्य, यूरोपीय संघ, भारत, इंडोनेशिया, इटली, स्पेन, तुर्की और ब्रिटेन शामिल हैं।’’

सूत्रों का कहना है कि यूरोपीय संघ और ब्रिटेन जैसे कई अमेरिकी सहयोगी देशों का नाम सूची में शामिल है इसलिये यह माना जाना चाहिये कि यूएसटीआर की कार्रवाई डिजिटल कर के मुद्दे को लेकर है। इसे भारत के खिलाफ अमेरिका की आक्रामकता नहीं माना जाना चाहिये।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।