07 Jul 2020, 12:43 HRS IST
  • प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    प्रधानमंत्री जी बोलिए कि चीन ने हमारी जमीन हथियाई,देश आपके साथ है:राहुल
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    दुबई के गुरुद्वारे ने भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए पहला चार्टर्ड विमान पंजाब भेजा
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
    सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम की घोषणा 15 जुलाई तक
    सेना प्रमुख ने लद्दाख का दौरा कर हालात का जायजा लिया
    सेना प्रमुख ने लद्दाख का दौरा कर हालात का जायजा लिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम राष्ट्रीय
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • बेंगलुरु से 179 प्रवासी मजदूर पहुंचे रायपुर

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 19:59 HRS IST

रायपुर, चार जून (भाषा) लॉकडाउन के कारण कर्नाटक में फंसे छत्तीसगढ़ के 179 श्रमिक बृहस्पतिवार को विशेष विमान से यहां पहुंचे।

बेंगलुरु और हैदराबाद लॉ यूर्निवसिटी के सहयोग से 350 से अधिक श्रमिक दो दिनों में अपने घर पहुंचेंगे।

राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि छत्तीसगढ़ के 179 प्रवासी मजदूर विशेष विमान से बेंगलुरु से रायपुर के स्वामी विवेकानंद विमानतल पहुंचे।

अधिकारियों ने बताया कि ये श्रमिक बेंगलुरु और हैदराबाद लॉ यूर्निवसिटी के सहयोग से विशेष विमान से रायपुर पहुंचे है। श्रमिकों ने इस सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया और बताया कि उनकी यात्रा सुखद और यादगार रही है।

विशेष विमान से श्रमिकों की रायपुर पहुंचने की जानकारी बुधवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट करके दी थी। उन्होंने श्रमिकों की मदद करने पर आभार भी व्यक्त किया था।

अधिकारियों ने बताया कि आज रायपुर पहुंचे विमान में राज्य के बलौदाबाजार, महासमुंद, जांजगीर-चांपा, पेन्ड्रा-गौरेल्ला- मरवाही, नारायणपुर सहित अन्य जिलों के श्रमिक शामिल हैं।

विमान से रायपुर पहुंचे बलौदाबाजार जिले के श्रमिक तुकाराम और चंद्रलता साहू ने बताया कि वह बेंगलुरु के बिजली वायर बनाने वाली कंपनी मदरसन में काम करते थे। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते कंपनी के बंद हो जाने उनका जीवनयापन कठिन हो गया था।

श्रमिकों को ने बताया कि बेंगलुरु और हैदराबाद लॉ यूर्निवसिटी के पूर्व छात्रों और सरकार ने उन लोगों को उनके गांव, घर पहुंचाने की व्यवस्था की है, उसके लिए वे सभी का आभार व्यक्त करते हैं।

वहीं महासमुन्द जिले के सराईपाली गांव के निवासी महेश और आनंद ने घर पहुंचने में मदद करने वालों को धन्यवाद दिया और कहा कि वह और गांव के अन्य लोग सभी बेंगलुरु के पोल्ट्रीफार्म में काम करते थे। लॉकडाउन के कारण काम बंद हो जाने से रोजी-रोटी की समस्या पैदा हो गई थी।

श्रमिकों ने कहा कि वे सभी अपने घर वापस जाने के लिये बेचैन थे और इस विकट परिस्थिति में उन्हें सहारा मिला और घर पहुंचाने में मदद मिली।

अधिकारियों ने बताया कि इन श्रमिकों की रायपुर विमानतल में चिकित्सा जांच की गई तथा इन्हें भोजन उपलब्ध कराने के बाद उनके जिलों में भेजा गया। वहां वे पृथक केन्द्र में रहेंगे।

उन्होंने बताया कि इसी तरह शुक्रवार को भी 174 श्रमिक विमान से आएंगे। दोनों विमान विशेष श्रमिक विमान हैं, जिन्हें श्रमिकों को लाने के लिए विशेष रूप से बुक किया गया है।

राज्य के समर्थ चैरिटेबल ट्रस्ट की सदस्य मंजीत कौर बल ने बताया कि कर्नाटक में फंसे छत्तीसगढ़ के लगभग 350 श्रमिकों को विमान से रायपुर लाया जाएगा। नालसार हैदराबाद, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी बेंगलुरु और छत्तीसगढ़ की समर्थ चैरिटेबल ट्रस्ट तथा वी द पीपल संस्था की पहल पर इन श्रमिकों को रायपुर लाया जा रहा है।

बल ने बताया कि चार जून के लिए नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु ने हवाई यात्रा की व्यवस्था की थी। वहीं पांच जून को हवाई यात्रा के लिए पूरी तैयारी नालसार हैदराबाद के पूर्व छात्रों ने इंडिगो विमान के साथ अपनी तैयारी पूरी कर ली है। इस विमान से 174 श्रमिक बेंगलुरु से रवाना होंगे।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।