05 Aug 2020, 01:51 HRS IST
  • देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,735 नए मामले, कुल मामले 17 लाख के पार
    देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,735 नए मामले, कुल मामले 17 लाख के पार
    कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है, बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत : मोदी
    कोरोना वायरस का खतरा टला नहीं है, बहुत ही ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत : मोदी
    भारत में कोविड-19 के मामले 13 लाख के पार, मृतकों की संख्या 31,358 हुई
    भारत में कोविड-19 के मामले 13 लाख के पार, मृतकों की संख्या 31,358 हुई
    कानून बनने के बाद तीन तलाक की घटनाओं में 82 फीसदी की कमी: नकवी
    कानून बनने के बाद तीन तलाक की घटनाओं में 82 फीसदी की कमी: नकवी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिका का बजट घाटा जून में 864 अरब डालर की सर्वकालिक ऊंचाई पर

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 11:24 HRS IST

वाशिंगटन, 14 जुलाई (एपी) अमेरिका की संघीय सरकार को इस साल जून महीने में इतिहास के सबसे बड़े बजट घाटे का सामाना करना पड़ा है। सरकार को एक तरफ कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिये ज्यादा खर्च करना पड़ा तो दूसरी तरफ लाखों नौकरियों के चले जाने से उसका कर राजस्व घट गया।

अमेरिका के राजकोषीय विभाग ने सोमवार को बताया कि पिछले महीने घाटा बढ़कर 864 अरब डालर पर पहुंच गया। यह आंकड़ा अमेरिका के इतिहास के कई वार्षिक घाटे से भी अधिक है। इससे पहले अप्रैल माह में अमेरिका को 738 अरब डालर का मासिक घाटा हुआ। अमेरिकी कांग्रेस ने कोरोना वायरस के प्रभाव से निपटने के लिये पहले ही अरबों डालर की राशि उपलब्ध कराई है।

अमेरिका का बजट घाटा चालू वित्त वर्ष के (एक अक्टूबर 2019 से) पहले नौ माह के दौरान कुल मिलाकर 2,740 अरब डालर तक पहुंच चुका है। नौ माह की इस अवधि के लिये यह घाटा एक रिकार्ड है। इस हिसाब से पूरे साल का घाटा 3,700 अरब डालर तक पहुंच सकता है। अमेरिका की कांग्रेस यानी संसद ने वर्ष के दौरान बजट घाटा इस स्तर तक पहुंचने का अनुमान व्यक्त किया है।

अमेरिका का यह बजट घाटा उसके वर्ष 2009 के पिछले सालाना रिकार्ड 1,400 अरब डालर के मुकाबले कहीं अधिक होगा। उस समय छाई मंदी के दौरान अमेरिकी सरकार ने अर्थव्यवस्था की स्थिति में सुधार लाने के लिये भारी खर्च किया था।

अमेरिकी सरकार ने कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन लागू किया जिससे कई लोग बेरोजगार हो गये। लोगों को राहत पहुंचाने के लिये कई कार्यक्रम शुरू किये गये। बेरोजगारों को 600 डालर प्रति सप्ताह का अतिरिक्त लाभ दिया गया और कंपनियों को उनके कर्मचारियों के लिये वेतन संरक्षण सुविधा दी गई ताकि उन्हें नौकरी में बरकरार रखा जाये। इसे पे-चेक सुरक्षा कार्यक्रम का नाम दिया गया जिसपर जून माह में 511 अरब डालर खर्च हुये।

एपी







महाबीर महाबीर 1407 1129 वाशिंगटन

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।