24 Oct 2020, 17:37 HRS IST
  • न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अप्रैल-अगस्त के दौरान स्वास्थ्य बीमा दावों में 11 प्रतिशत कोविड के इलाज से संबंधित : अध्ययन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 17:5 HRS IST

नयी दिल्ली, 13 सितंबर (भाषा) चालू वित्त वर्ष के पहले पांच माह अप्रैल से अगस्त के दौरान बीमा कंपनियों द्वारा किए गए स्वास्थ्य बीमा दावों के भुगतान में कोविड-19 के इलाज से संबंधित खर्च का हिस्सा 11 प्रतिशत रहा है। पॉलिसीबाजार.कॉम द्वारा किए गए विश्लेषण में यह तथ्य सामने आया है।

अध्ययन के अनुसार एक अप्रैल, 2020 से 31 अगस्त, 2020 के दौरान दौरान शेष 89 प्रतिशत दावे अन्य बीमारियों मसलन कैंसर, ह्दय रोग, गुर्दा और अन्य बीमारियों से संबंधित थे। पॉलिसीबाजार.कॉम की देश के खुदरा स्वास्थ्य बीमा बाजार में 10 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कंपनी ने कहा कि यह आंकड़ा एक अप्रैल से 31 अगस्त की अवधि का है।

अध्ययन में कहा गया है कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों तथा इलाज के बढ़ते खर्च की वजह से आज अधिक से अधिक लोग इस अनिश्चित समय में स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी ले रहे हैं।

पॉलिसीबाजार.कॉम ने कहा कि हमारे आंकड़ों के अनुसार इस अवधि में स्वास्थ्य बीमा के कुल दावों में से सिर्फ 11 प्रतिशत कोविड-19 से संबंधित थे। शेष अन्य प्रमुख बीमारियों से संबंधित दावे थे।

अध्ययन में कहा गया है, ‘‘कोविड-19 के डर से लोग आज स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी को प्राथमिकता दे रहे हैं। पहले कभी ऐसा देखने को नहीं मिला है। सिर्फ इस महामारी ही नहीं, अन्य बीमारियों से संरक्षण के लिए भी लोग स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी ले रहे हैं।’’

इलाज के खर्च के बारे में कंपनी ने कहा कि यदि लंबे समय तक अस्पताल में रहना पड़े तो कोविड-19 के इलाज पर 10 लाख रुपये तक खर्च हो सकते हैं। किसी 32 साल के व्यक्ति के लिए 10 लाख रुपये की वृहद बीमा पॉलिसी की लागत सालाना 7,000 से 9,000 रुपये बैठेगी। अध्ययन में कहा गया है कि बाजार में ऐसी भी योजनाएं हैं जिनमें 32 साल व्यक्ति के लिए एक करोड़ रुपये की बीमा पॉलिसी की लागत वार्षिक 13,000 से 15,000 रुपये बैठेगी।

पॉलिसीबाजार.कॉम के प्रमुख-स्वास्थ्य बीमा अमित छाबड़ा ने कहा कि मार्केटप्लेस पर स्वास्थ्य बीमा कारोबार ने जुलाई में 130 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है। अप्रैल-जून की तिमाही में इसमें 90 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में