24 Oct 2020, 17:26 HRS IST
  • न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    न्यायाधीशों को निडर होकर लेने चाहिए निर्णय: न्यायमूर्ति एन.वी. रमण
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    गोयल को मिला उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    पीआईएल:सुशांत मामले में अर्णब की रिपोर्टिंग भ्रामक होने का दावा
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
    प्रतिकूल परिस्थितियों से निपटने की अभियान क्षमता दिखाई:भदौरिया
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • लॉकडाउन में छूट के बाद हजारों लोगों ने नेतन्याहू के खिलाफ किया प्रदर्शन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 10:40 HRS IST

यरुशलम, 18 अक्टूबर (एपी) इजराइल में कोविड-19 पर काबू के लिए लागू आपात प्रतिबंधों के हटने के बाद हजारों लोगों ने शनिवार रात प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के आधिकारिक आवास के बाहर प्रदर्शन किया और इस तरह फिर से साप्ताहिक प्रदर्शन की शुरुआत हो गई।

पिछले महीने इजराइल में महामारी पर काबू के लिए नए प्रतिबंध लगाए गए थे जिसके बाद विरोध प्रदर्शन रूक गये थे। आपात नियमों की वजह से बड़ी संख्या में लोग प्रदर्शन के लिए यरुशलम नहीं पहुंच पा रहे थे और लोगों को घर के एक किलोमीटर के दायरे में ही कम संख्या में प्रदर्शन में हिस्सा लेने की अनुमति थी।

प्रदर्शनकारी मध्य यरुशलम में जमा हुए और नेतन्याहू के आधिकारिक आवास तक हाथों में तख्तियां लिए पहुंचे। इस दौरान वे उनके पद छोड़ने के लिए और ‘क्रांति’ के समर्थन में नारे लगा रहे थे।

प्रदर्शन के आयोजकों का कहना है कि इसमें देश भर के करीब 2,60,000 लोगों ने हिस्सा लिया।

प्रदर्शनकारियों का कहना था कि नेतन्याहू को पद से इस्तीफा देना चाहिए। उनका कहना था कि प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे हैं और इसलिए वह इस दौरान देश का नेतृत्व करने के योग्य नहीं है। प्रदर्शनकारियों ने नेतन्याहू पर महामारी से ठीक से नहीं निपटने और इस वजह से बेरोजगारी बढ़ने का आरोप भी लगाया।

नेतन्याहू पर धोखाधड़ी का आरोप है। विश्वासघात और कई घोटालों में रिश्वत लेने की उनकी भूमिका की जांच चल रही है। हालांकि वह इन आरोपों से इनकार करते रहे हैं और उनका कहना है कि वह अति उत्साही पुलिस, अभियोजक और उदार मीडिया के षडयंत्रों के शिकार हैं।

एपी स्नेहा अविनाश अविनाश 1810 1030 यरुशलम

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में