11 May 2021, 00:40 HRS IST
  • गुजरात के भरूच में अस्पताल में आग लगने से कोविड-19 के 18 मरीजों की मौत
    गुजरात के भरूच में अस्पताल में आग लगने से कोविड-19 के 18 मरीजों की मौत
    कोविड की ताजा लहर के ‘तूफान’ ने देश को झकझोर कर रख दिया-मोदी
    कोविड की ताजा लहर के ‘तूफान’ ने देश को झकझोर कर रख दिया-मोदी
    देश में कोविड-19 से 2,023 लोगों की मौत, संक्रमण के 2,95,041 नए मामले
    देश में कोविड-19 से 2,023 लोगों की मौत, संक्रमण के 2,95,041 नए मामले
    त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब कोरोना वायरस से संक्रमित
    त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब कोरोना वायरस से संक्रमित
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • आईजीएल डीजल जनरेटर को गैस से चलने वाले जनरेटर में बदलने में करेगा मदद

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 0:25 HRS IST

नयी दिल्ली, 23 अक्ट्रबर (भाषा) दिल्ली और पड़ोसी शहरों में डीजल से चलने वाले जनरेटर पर रोक लगने के बाद इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड ने शुक्रवार को कहा कि वह आवासीय परिसरों और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों को उनके डीजल जनरेटरों के स्थान पर उन्हें पर्यावरण अनुकूल प्राकृतिक गैस से चलने वाले जनरेटर उपलब्ध कराने में मदद करेगी।

आईजीएल राष्ट्रीय राजधानी और आसपास के शहरों में सीएनजी पंप चलाने और पाइप के जरिये रसोई घर में गैस आपूर्ति का काम करती है।

कंपनी ने बृहस्पतिवार को जारी एक वक्तव्य में कहा कि वह दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और गुरुग्राम के कुछ हिस्से में स्थित आवासीय परिसरों, वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों और औद्योगिक इकाइयों में उनके डीजल से चलने वाले जनरेटरों को प्राकृतिक गैस के जनरेटर में परिवर्तित करने के लिये उपयुक्त समाधान उपलब्ध कराने की पेशकश करेगी।

आईजीएल के प्रबंध निदेशक ए के जना ने कहा, ‘‘पर्यावरण की समस्या को देखते हुये डीजल के जनरेटरों के उपयोग पर रोक लगा दी गई है। ऐसे में बड़ी संख्या में इसका इस्तेमाल करने वाले अपने डीजल जनरेटर को गैस जनरेटर में परिवर्तित करने के बारे में विचार कर रहे हैं। स्वच्छ ऊर्जा समाधान उपलब्ध कराने के लिये प्रतिबद्ध कंपनी के तौर पर हमने इस जरूरत को पूरा करने के लिये ऐसे जरूरतमंद लोगों की आवश्यकता को अपनी तकनीकी टीम तक पहुंचने और उन्हें पर्यावरण् अनुकूल समाधान उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है।’’

इसके लिये आईजीएल की वेबसाइट पर एक लिंक जारी किया गया है जिसमें जरूरतमंद अपना ब्यौरा भेज सकते हैं।



  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में