19 Jan 2021, 05:27 HRS IST
  • दिल्ली में करीब 10 महीने बाद 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए खुले स्कूल
    दिल्ली में करीब 10 महीने बाद 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए खुले स्कूल
    ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की
    ममता बनर्जी ने नंदीग्राम सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की
    कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड
    कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड
    एम्स,नई दिल्ली में कोविड-19 वैक्सीन दिखाते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन
    एम्स,नई दिल्ली में कोविड-19 वैक्सीन दिखाते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम खेल
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • नस्लीय छींटाकशी की शिकायत करके सिरा ने नये मानदंड कायम किये : लियोन

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:37 HRS IST

ब्रिसबेन, 13 जनवरी (भाषा) आस्ट्रेलिया के शीर्ष आफ स्पिनर नाथन लियोन ने बुधवार को कहा कि दर्शकों के खराब बर्ताव की निंदा करके भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने नये मानदंड कायम किये हैं । उन्होंने यह भी कहा कि क्रिकेट का खेल सभी के लिये है और इसमें किसी तरह के नस्लवाद की जगह नहीं है ।

सिडनी क्रिकेट मैदान पर सिराज और जसप्रीत बुमराह को चौथे और पांचवें दिन दर्शकों की नस्लीय टिप्पणियों का सामना करना पड़ा । इसके बाद भारतीय टीम ने आईसीसी के पास शिकायत दर्ज कराई ।

लियोन ने एक वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा ,‘‘ खेल में किसी तरह की नस्लीय छींटाकशी की गुंजाइश नहीं है ।लोगों को लगता है कि वे मजाक कर रहे हैं लेकिन इससे लोगों पर अलग तरह से प्रभाव पड़ सकता है । क्रिकेट का खेल सभी के लिये है और इसमें नस्लवाद की कोई जगह नहीं है ।’’

उन्होंने कहा ,‘‘यदि आपको लगता है कि मैच अधिकारियों से शिकायत करने की जरूरत है तो करनी चाहिये । आजकल मैदान पर इतने सुरक्षाकर्मी होते हैं कि नस्लीय टिप्पणी करने वालेां को तुरंत निकाल बाहर किया जा सकता है । इससे मैच अधिकारियों से शिकायत का चलन भी बनेगा ।’’

सिराज को स्क्वेयर लेग सीमा पर दर्शकों ने ‘मंकी ’ और ‘ब्राउन डॉग’ कहा । सुरक्षाकर्मियों ने इन दर्शकों को मैदान से बाहर कर दिया ।

लियोन ने कहा ,‘‘ इससे घटना की शिकायत का चलन कायम होगा । यह खिलाड़ी पर निर्भर करता है कि वह शिकायत करना चाहता है या नहीं । मैं उम्मीद करता हूं कि आइंदा लोग इससे उबरकर सिर्फ क्रिकेट देखने आयेंगे और खिलाड़ियों को नस्लीय दुव्यर्वहार की चिंता नहीं करनी होगी ।’’

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।