15 Apr 2021, 08:20 HRS IST
  • दस राज्यों में रोजाना बढ़ रहे हैं कोविड-19 के नये मामले
    दस राज्यों में रोजाना बढ़ रहे हैं कोविड-19 के नये मामले
    त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब कोरोना वायरस से संक्रमित
    त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब कोरोना वायरस से संक्रमित
    मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति : फोर्ब्स
    मुकेश अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति : फोर्ब्स
    दीदी को तिलक लगाने वालों,भगवा कपड़े पहनने वालों से दिक्कत: मोदी
    दीदी को तिलक लगाने वालों,भगवा कपड़े पहनने वालों से दिक्कत: मोदी
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिका को ईरान परमाणु वार्ता में जल्द कोई बड़ी कामयाबी मिलने की उम्मीद नहीं

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:15 HRS IST

(ललित के झा)

वाशिंगटन, सात अप्रैल (भाषा) अमेरिका के विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि विएना में शुरू हुई ईरान परमाणु वार्ता में जल्द ही कोई बड़ी कामयाबी मिलने की उम्मीद नहीं है और आगे की ‘‘बातचीत मुश्किल’’ होगी।

तेहरान के परमाणु कार्यक्रम पर यूरोपीय संघ की मध्यस्थता से हो रही बैठक में ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, जर्मनी, रूस और ईरान के राजनयिक भाग ले रहे हैं। यह बैठक मंगलवार को विएना में शुरू हुई।

करीब तीन साल पहले तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ईरान के साथ परमाणु करार से अमेरिका को अलग कर लिया था जिसके बाद से ही ईरान परमाणु समझौता अधर में लटका है।

अमेरिका और ईरान ने पिछले हफ्ते कहा था कि वे मध्यस्थों के जरिए परोक्ष बातचीत शुरू करेंगे ताकि ईरानी परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने से संबंधित समझौते पर दोनों देश वापस आ सकें।

विएना में बातचीत शुरू होने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने मंगलवार को पत्रकारों से कहा कि ‘‘आगे की बातचीत मुश्किल होगी।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह शुरुआत है और हम तत्काल किसी कामयाबी का अनुमान नहीं लगाते क्योंकि आगे जटिल चर्चा होगी।’’

उन्होंने कहा कि यह बातचीत आगे की दिशा में एक अच्छा कदम है।

प्राइस ने कहा कि इस स्तर पर अमेरिका, ईरान के साथ किसी प्रत्यक्ष बातचीत की उम्मीद नहीं करता।

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि वह इस ऐतिहासिक समझौते में लौटना चाहते हैं।

साल 2015 में हुए इस समझौते का मकसद ईरान को परमाणु हथियार बनाने से रोकना था।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में