28 Sep 2021, 09:9 HRS IST
  • प्रधानमंत्री मोदी ने आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन की शुरुआत की
    प्रधानमंत्री मोदी ने आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन की शुरुआत की
    जर्मनी के चुनाव में सोशल डेमोक्रेट पार्टी ने मर्केल के ब्लॉक को हराया
    जर्मनी के चुनाव में सोशल डेमोक्रेट पार्टी ने मर्केल के ब्लॉक को हराया
    जिस तरीके से मैच जीते खुश हूं: कोहली
    जिस तरीके से मैच जीते खुश हूं: कोहली
    भारत बंद के कारण कई ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित
    भारत बंद के कारण कई ट्रेनों की आवाजाही प्रभावित
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • भारत में सोने की मांग अप्रैल-जून तिमाही में 19 प्रतिशत बढ़ी: डब्ल्यूजीसी

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:11 HRS IST

मुंबई, 29 जुलाई (पीटीआई) वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (डब्ल्यूजीसी) ने एक रिपोर्ट में कहा कि इस साल अप्रैल-जून तिमाही के दौरान भारत में सोने की मांग 19.2 प्रतिशत बढ़कर 76.1 टन हो गई, जिसका मुख्य कारण कम आधार प्रभाव था।

गौरतलब है कि पिछले साल देशव्यापी लॉकडाउन के चलते आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुई थीं।

डब्ल्यूजीसी की रिपोर्ट ‘2021 की दूसरी तिमाही में सोने की मांग के रुझान’ के अनुसार कैलेंडर वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही में सोने की कुल मांग 63.8 टन थी।

रिपोर्ट में कहा गया कि कीमत के लिहाज से भारत में सोने की मांग समीक्षाधीन अवधि में 23 प्रतिशत बढ़कर 32,810 करोड़ रुपये हो गई, जो 2020 की इसी अवधि में 26,600 करोड़ रुपये थी।

रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रकोप के चलते पिछली तिमाही के मुकाबले मांग में 46 प्रतिशत की गिरावट आई।

इसी तरह मौजूदा साल की पहली छमाही में कुल मांग 157.6 टन थी, जो 2019 की पहली छमाही के मुकाबले 46 फीसदी थी।

डब्ल्यूजीसी के भारत में क्षेत्रीय सीईओ सोमसुंदरम पी आर ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘कोविड-19 संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के चलते 2021 की दूसरी तिमाही में क्षेत्रीय आधार पर लॉकडाउन लगाया गया, जबकि पिछले साल पूरे देश में सख्त लॉकडाउन लागू किया गया था। ये तिमाही इसलिए भी बेहतर है क्योंकि व्यवसाय अधिक तैयार थे।’’

रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल-जून तिमाही में वैश्विक सोने की मांग में पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाले एक प्रतिशत की गिरावट हुई और यह 955.1 टन रही।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में