07 Dec 2021, 09:42 HRS IST
  • भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त दी
    भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त दी
    बीआर आंबेडकर पुण्यतिथि
    बीआर आंबेडकर पुण्यतिथि
    राजनाथ सिंह ने दिल्ली में अपने रूसी समकक्ष से मुलाकात की
    राजनाथ सिंह ने दिल्ली में अपने रूसी समकक्ष से मुलाकात की
    पोप फ्रांसिस यूनान दौरे पर
    पोप फ्रांसिस यूनान दौरे पर
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम अर्थ
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • कभी डकैतों का रहा था आतंक, आज यहां की 80 महिलाएं सीख रही हैं बल्ब, लाइट बनाना

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:45 HRS IST

शाहजहांपुर (उप्र), 23 अक्टूबर (भाषा) गंगा नदी और रामगंगा के तट पर बसे गांवों की करीब 80 महिलाओं का समूह बल्ब और रोशनी वाली लाइटें बनाने का काम सीख रहा है। कभी उत्तर प्रदेश के इस इलाके में डकैतों का आतंक हुआ करता था। आज शाहजहांपुर के भारतीय उद्योग संघ की पहल पर यहां की महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

जिला मजिस्ट्रेट विक्रम सिंह ने कहा कि इस पहल का मकसद ग्रामीण इलाकों की महिलाओं को वित्तीय रूप से सशक्त करना है। इससे यहां कुटीर उद्योगों को प्रोत्साहन मिलेगा।



सिंह ने इस पहल को असाधारण बताते हुए कहा कि इसके जरिये हमारी चीन पर निर्भरता कम करने में मदद मिलेगी। ‘‘इससे बेरोजगार महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने में मदद मिलेगी।’’

भारतीय उद्योग संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने पीटीआई-भाषा से कहा कि इस पहल की शुरुआत शाहजहांपुर से हुई है और अभी 80 महिलाएं इसका हिस्सा हैं। ये महिलाएं गंगा नदी और रामगंगा क्षेत्रों के गांवों से आती हैं, जहां कभी डकैतों का आतंक होता था।

उन्होंने बताया कि इन महिलाओं को लखनऊ के प्रशिक्षक विवेक सिंह प्रशिक्षण दे रहे हैं। अग्रवाल ने कहा, ‘‘इन महिलाओं को बल्ब, दिवाली पर रोशनी वाली लाइटें बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।’’

उन्होंने कहा कि इन महिलाओं द्वारा उत्पादित उत्पाद बड़ी कंपनियां सीधे खरीदेंगी। कच्चा माल भी यही कंपनियां उपलब्ध कराएंगी।

अग्रवाल ने कहा कि इस पहल को पूरे राज्य में कार्यान्वित किया जाएगा। उसके बाद इसका देश के अन्य राज्यों में विस्तार किया जाएगा।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।