07 Dec 2021, 08:25 HRS IST
  • भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त दी
    भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त दी
    बीआर आंबेडकर पुण्यतिथि
    बीआर आंबेडकर पुण्यतिथि
    राजनाथ सिंह ने दिल्ली में अपने रूसी समकक्ष से मुलाकात की
    राजनाथ सिंह ने दिल्ली में अपने रूसी समकक्ष से मुलाकात की
    पोप फ्रांसिस यूनान दौरे पर
    पोप फ्रांसिस यूनान दौरे पर
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • अमेरिकी न्याय मंत्रालय ने विमान में यात्रियों के व्यवहार पर चिंता व्यक्त की

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 12:18 HRS IST

वाशिंगटन, 25 नवंबर (एपी) अटॉर्नी जनरल मेरिक गारलैंड ने देश भर के अमेरिकी वकीलों को वाणिज्यिक उड़ानों के दौरान हुए संघीय अपराधों के मामलों को प्राथमिकता देने का निर्देश दिया है, क्योंकि संघीय अधिकारियों को यात्रियों के व्यवहार को लेकर बड़ी संख्या में शिकायतें मिल रही हैं।

गारलैंड ने बुधवार को एक ज्ञापन जारी कर इस बात पर जोर दिया कि न्याय मंत्रालय हिंसक व्यवहार करने वाले ऐसे यात्रियों पर मुकदमा चलाने के लिए प्रतिबद्ध है, जो चालक दल के सदस्यों पर हमला करते हैं या अन्य यात्रियों की सुरक्षा को खतरे में डालते हैं। संघीय कानून चालक दल के सदस्यों के साथ बदसलूकी करने, उन पर हमला करने या उन्हें धमकाने पर भी रोक लगाता है।

गारलैंड ने एक बयान में कहा कि ऐसे यात्री, कर्मचारियों के लिए खतरा हैं। ‘‘ वे उन्हें उनके आवश्यक कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोकते हैं, जो सुरक्षित हवाई यात्रा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है। इसी तरह, जब कोई यात्री किसी अन्य यात्री के प्रति हिंसक व्यवहार करता है, तो इससे विमान में मौजूद सभी लोगों के लिए खतरा उत्पन्न होता है।’’

ज्ञापन में कहा गया कि संघीय विमानन प्रशासन (एफएए) द्वारा संघीय जांच एजेंसी (एफबीआई) को ऐसी दर्जनों घटनाओं की जानकारी दी गई। ये जानकारी दोनों एजेंसियों के बीच “सूचना साझा करने की व्यवस्था” के तहत साझा की गईं। एफएए ने उड़ान के दौरान गड़बड़ी पैदा करने की कोशिशों की जांच की और वह उपद्रव करने वाले यात्रियों पर जुर्माना भी लगा सकती है।

एफएए ने महीने की शुरुआत में कहा था कि इस साल उसने यात्रियों के व्यवहार के संबंध में 950 जांच शुरू की हैं। यह आंकड़ा 1995 के बाद से सर्वाधिक है। 2016 से 2020 के बीच एजेंसी ने हर साल औसतन 136 जांच की थीं।

एपी निहारिका प्रशांत प्रशांत 2511 1215 वाशिंगटन

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।
  • इस खण्ड में