06 Jul 2022, 01:29 HRS IST
  • किताब'मोदी@20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी'चर्चा कार्यक्रम में जयशंकर
    किताब'मोदी@20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी'चर्चा कार्यक्रम में जयशंकर
    राष्ट्रपति पद की राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पटना पहुंची
    राष्ट्रपति पद की राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पटना पहुंची
    महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी
    महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी
    अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस का जश्न
    अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस का जश्न
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • यूक्रेन ने इस्पात संयंत्र में फंसे सैनिकों को बचाने का कार्य पूरा किया

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 13:3 HRS IST

कीव, 17 मई (एपी) यूक्रेन में तबाह कर दिये गये बंदरगाह शहर मारियुपोल में यूक्रेनी लड़ाकों ने एक इस्पात संयंत्र का डटकर बचाव किया और अपना लक्ष्य हासिल किया एवं अब वहां से एक एक रक्षक बचाकर लाने का प्रयास जारी है । यूक्रेन के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

यूक्रेन के उप रक्षा मंत्री ने कहा कि 260 से अधिक सैनिकों को सोमवार को हल्किंग अजोवस्तल संयंत्र से निकाला गया जिनमें कई गंभीर रूप से घायल थे। अधिकारियों ने अज्ञात संख्या में सेनानियों को बचाने की कोशिश जारी रखने की योजना बनाई जो पीछे रह गए थे।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा "लोगों को घर लाने का काम जारी है, और इसके लिए संवेदनशीलता और समय की आवश्यकता है।"

उन्होंने कहा कि कुछ रक्षकों की निकासी तब हुई जब मॉस्को को युद्ध में एक और राजनयिक झटका लगा। स्वीडन के नाटो की सदस्यता लेने का फैसला करने में फिनलैंड शामिल हो गया।

यूक्रेन की उप रक्षा मंत्री हन्ना मलियर ने कहा कि गंभीर रूप से घायल 53 सैनिकों को अजोवस्तल संयंत्र से मारियुपोल के पूरब में नोवोअजोवस्क के एक अस्पताल में ले जाया गया। एक मानवीय गलियारे के माध्यम से अतिरिक्त 211 सैनिकों को ओलेनिव्का के लिए निकाला गया। उन्होंने कहा कि उनकी घर वापसी के लिए एक समझौते के तहत काम किया जाएगा।

जेलेंस्की ने कहा कि अलगाववादी-नियंत्रित क्षेत्र में निकासी उन सैनिकों की जान बचाने के लिए की गई थी, जिन्होंने संयंत्र के नीचे भूमिगत मार्ग की भूलभुलैया में रूस द्वारा किए गए हमलों का हफ्तों तक सामना किया। उन्होंने कहा कि गंभीर रूप से घायलों को चिकित्सकीय सहायता मिल रही है।

जेलेंस्की ने कहा 'यूक्रेन की जरूरत है कि यूक्रेनी नायक जीवित रहें। यह हमारा सिद्धांत है।'

निकासी शुरू होने से पहले, रूसी रक्षा मंत्रालय ने मॉस्को समर्थक अलगाववादियों द्वारा आयोजित एक हिस्से में घायलों के इलाज के लिए संयंत्र छोड़ने के लिए एक समझौते की घोषणा की। घायलों को युद्ध बंदी माना जाएगा या नहीं, इस पर तत्काल कोई जानकारी नहीं थी।

सोमवार की रात के बाद, कई बसें रूसी सैन्य वाहनों के साथ इस्पात संयंत्र से दूर चली गईं। मलियर ने बाद में पुष्टि की कि निकासी हुई थी।

एपी फाल्गुनी मनीषा राजकुमार राजकुमार 1705 1302 कीव

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।