06 Jul 2022, 01:29 HRS IST
  • किताब'मोदी@20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी'चर्चा कार्यक्रम में जयशंकर
    किताब'मोदी@20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी'चर्चा कार्यक्रम में जयशंकर
    राष्ट्रपति पद की राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पटना पहुंची
    राष्ट्रपति पद की राजग की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पटना पहुंची
    महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी
    महाराष्ट्र में भारी बारिश की चेतावनी जारी
    अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस का जश्न
    अमेरिका में स्वतंत्रता दिवस का जश्न
PTI
PTI
Select
खबर
Skip Navigation Linksहोम विदेश
login
  • सबस्क्राइबर
  • यूज़र नाम
  • पासवर्ड   
  • याद रखें
ad
add
add
  • क्वात्रा ने की राजपक्षे से मुलाकात, श्रीलंका की स्थिति और भारतीय सहयोग पर चर्चा हुई

  • विज्ञापन
  • [ - ] फ़ॉन्ट का आकार [ + ]
पीटीआई-भाषा संवाददाता 15:11 HRS IST

कोलंबो, 23 जून (भाषा) विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने बृहस्पतिवार को श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने श्रीलंका की वर्तमान स्थिति और देश को अभूतपूर्व आर्थिक संकट से निकालने के लिए भारत की ओर से दिए जा रहे सहयोग पर चर्चा की।

'न्यूजफर्स्ट.आईके' वेबसाइट की खबर के अनुसार क्वात्रा ने राजपक्षे से कहा कि भारत श्रीलंका को मुश्किल हालात से निकालने के लिए एक करीबी मित्र के रूप में पूरा सहयोग देता रहेगा।

विदेश सचिव के साथ भारत के वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव अजय सेठ, भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार डॉक्टर वी.ए. नागेश्वरन और भारतीय विदेश मंत्रालय के हिंद महासागर क्षेत्र मामलों के संयुक्त सचिव कार्तिक पांडे मौजूद थे।

खबर के अनुसार प्रतिनिधिमंडल ने ईंधन, दवा, उर्वरक और अन्य आवश्यक वस्तुओं के मामले में पहले प्रदान की गई सहायता की समीक्षा की और कहा कि भारत सरकार श्रीलंका का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया कि क्वात्रा ने सेठ और नागेश्वरन के साथ राष्ट्रपति राजपक्षे से मुलाकात कर 'श्रीलंका की मौजूदा स्थिति व भारत की ओर से दिए जा रहे सहयोग के बारे में चर्चा की।'

उन्होंने कहा कि बैठक के दौरान भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने रेखांकित किया कि भारत निवेश, संपर्क को बढ़ावा देने और आर्थिक संबंधों को मजबूत बनाकर त्वरित आर्थिक सुधार में श्रीलंका की मदद करने के लिए तैयार है।'

बागची ने कहा, 'भारत की पड़ोस पहले की नीति में श्रीलंका के महत्व को दोहराया गया। दोनों पक्षों ने भारत-श्रीलंका संबंधों के विकास पर जोर दिया।'

गौरतलब है कि 1948 में स्वतंत्रता के बाद से श्रीलंका सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है, जिसके चलते देश में भोजन, दवा, रसोई गैस और ईंधन जैसी आवश्यक वस्तुओं की भारी किल्लत हो गई है।

  • अपनी टिप्पणी पोस्ट करे ।